पान खाने के 9 गजब के फायदे | Paan khane Ke Fayde

पान के फायदे (Paan Khane Ke Fayde) पान के नुकसान, पान के उपयोग, औषधीय गुण (Paan Ke Nuksan, Paan Ke Upyog, Properties of Paan in Hindi)

betel-leaf-paan-ke-fayde-benefits-nuksan-side-effects-uses-in-hindi
पान के फायदे – Paan Khane Ke Fayde

भारत एक ऐसा देश रहा हैं जिसने सबसे ज्यादा इस धरती पर जन्मी औषधियों का सदुपयोग किया है। हम भारतियों ने प्राचीन काल में पेड़-पौधों के औषधीय गुणों से ही अपने रोगों को ठीक किया है। आज भी आयुर्वेद जड़ी-बूटियों की उपयोगिता को पूरी दुनिया में व्याखित कर रहा हैं। एक लता या जड़ी-बूटी जो भी आप कहे वर्षो से हमारे काम आती रही है इसका नामा है पान। पान या पान के पत्ते बहुत ही गुणकारी है। आइये जानते है पान के फायदे एवं गुणों के बारे में –

पान क्या है? (Paan in Hindi)

पान तांबूली या नागवल्ली नामक लता का पत्ता होता है। इसको बीड़ी, चूना, खैर और सुपारी के प्रयोग में लाया जाता है। और इनके अलावा इसमें तरह-तरह के पान के मसाले, कपूर, सुगंधित पदार्थ आदि का भी प्रयोग किया जाता है। मद्रास में बिना खैर वाला पान खाया जाता है। अलग-अलग जगह पर इसको खाने का तरीका भी अलग अलग होता है। ज्यादातर लोग इसे खाना खाने के बाद खाना पसंद करते हैं।

जिस लता के पत्ते का उपयोग पान के रूप में किया जाता है, उस लता के पत्ते छोटे बड़े अनेक आकार के होते हैं। इनके बीच में एक मोटी नस जैसी होती है। और इस पत्ते की आकृति बिल्कुल मानव ह्रदय के सदृश होती है। भारत के विभिन्न भागों में पान के पत्तों की सैकड़ों किसमें है- कड़े, मुलायम, छोटे ,बड़े, लचीले, रूखे आदि। और इन सभी के स्वाद में भी काफी अंतर देखा जा सकता है।

वैसे पान भारत के इतिहास एवं परंपराओं से गहराई तक जुड़ा हुआ है। इसका उद्गम स्थल मलाया द्वीप माना जाता है।

पान के औषधीय गुण (Medical Properties of Paan in Hindi)

पान के पत्ते को एक प्राचीन आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी के रूप में जाना जाता है। क्योंकि इसमें काफी सारे औषधीय गुण मौजूद है। पान का पत्ता कई बीमारियों से बचाने में हमारी मदद कर सकता है।

  • इसमें एंटी डायबिटिक गुण होता है जो डायबिटीज के लक्षणों को काम करने में मदद करता है।
  • इसके अलावा पान के पत्ते में एंटीऑक्सीडेंट(मुक्त कणो से लड़ने वाला)
  • एंटी इन्फ्लेमेटरी (सूजन से लड़ने वाला)
  • एंटीअल्सर (अल्सर से लड़ने वाला)
  • कैंसर से बचाने वाला anti-cancer भी होता है।

यह सारे औषधि गुण पान के पत्ते में होते हैं जो इन सभी रोगों से लड़ने में हमारी मदद करते हैं।।

पान के पत्ते में मौजूद पोषक तत्व (Nutrients)

खाने की बात करें तो पान के पत्ते खाने में थोड़े कसैले होते हैं। हालांकि इन पत्तियों में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं जो सेहत की दृष्टि से काफी लाभदायक होते हैं।

पान के पत्ते में टैनिन, प्रोपेन, एल्के लॉयड और फिनाइल पाया जाता है जो शरीर में मौजूद सूजन और दर्द को कम करने में काफी मददगार सिद्ध हो सकता है।

इनके अलावा पान के पत्तों में प्रोटीन, मिनरल्स, फाइबर, विटामिन सी, विटामिन ए, आयोडीन और पोटेशियम पाए जाते हैं। यह सभी पोषक तत्व स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी लाभकारी होते हैं। इन सभी पोषक तत्व से युक्त चीजों को खाने से हमारा स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है।

पान के पत्ते के उपयोग (Uses of Betel Leaf in Hindi)

स्वास्थ्य की दृष्टि से देखा जाए तो पान हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी होता है इसका उपयोग हम कई तरह से कर सकते हैं –

  • कब्ज को दूर करने में इसका उपयोग किया जा सकता है, इसके लिए पान के पत्ते को चबाया जाता है।
  • पान के पत्ते को खाने से सिर दर्द भी दूर हो सकता है।
  • यदि किसी को चोट लग जाए तो उस घाव पर पान का पत्ता पीसकर लगाने से घाव जल्दी भर जाता है।
  • पान के पत्ते से खांसी में भी राहत मिलती है।
  • पान के पत्ते का उपयोग सर्दी-जुकाम को दूर करने में भी किया जा सकता है।
  • ब्रेस्ट की सूजन को कम करने में भी पान काफी हद तक उपयोगी होता है।
  • यदि किसी व्यक्ति के मुंह से दुर्गंध आती है तो पान की पत्ती को खाने से दुर्गंध दूर हो जाती है।
  • अल्सर में भी पान का पत्ता काफी उपयोगी होता है।

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > चिया बीज ऐसे खाए, बीमारी चुटकियों में दूर भगाए

पान के पत्ते के फायदे (Paan Khane Ke Fayde)

यदि आयुर्वेद की बात की जाए तो हमारे आसपास जितने भी प्राकृतिक संसाधन या वनस्पति मौजूद है उनके अनेकों फायदे औषधि विज्ञान में बताए गए हैं। उसी वनस्पति श्रृंखला में पान का पत्ता भी आता है। पान के पत्ते के अनेकों फायदे हैं।इससे होने वाले फायदों के बारे में हम आपको कुछ बिंदुओं के माध्यम से बताएंगे-

1. विटामिन सी, प्रोटीन और अन्य लाभदायक पदार्थों का स्रोत

पान विटामिन सी, प्रोटीन और अन्य लाभदायक पदार्थों का स्रोत माना जाता है। इसमें पाए जाने वाले तमाम और से गुणों के आधार पर कह सकते हैं कि यह एक अद्भुत जड़ी बूटी है, इन सभी आवश्यक पदार्थों की मौजूदगी के कारण अनेक प्रकार के रोगों में पान का पत्ता अधिक कारगर सिद्ध होता है। ये सारे पोषक तत्व किसी भी जीवित प्राणी के अंदर होना बहुत ही आवश्यक होता है इससे प्राणी को आंतरिक और बाहरी दोनों प्रकार की ऊर्जा प्राप्त होती है।

2. सर्दी खांसी में

पान का पत्ता सर्दी खांसी में काफी फायदेमंद होता है। जब सर्दी खांसी के दौरान छाती और फेफड़ों में समस्या होने के साथ साथ श्वसन से संबंधित समस्या भी हो सकती है तो इस समस्या के निवारण के लिए पान के पत्ते पर सरसों का तेल लगा कर इसे गरम करने के बाद पीड़ित व्यक्ति की छाती पर रख सकते हैं, ऐसा करने से सर्दी खांसी में राहत मिलती है। और पीड़ित व्यक्ति काफी हद तक राहत महसूस करता है।

3. ब्लड शुगर के लेवल को कम करने में

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग खानपान पर सही तरीके से ध्यान नहीं रखते नतीजा शुगर जैसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हो जाते हैं। शुगर के कई डॉक्टरी इलाज है लेकिन ज्यादा दवाइयां भी शरीर पर बुरा प्रभाव डालती है।

तो ब्लड शुगर को कंट्रोल रखने के लिए एक घरेलू उपचार भी मौजूद है, शुगर जैसी गंभीर बीमारी में भी पान के पत्तों की सकारात्मक भूमिका होती है। दरअसल पान की पत्तियां हाइब्रिड शुगर के स्तर को नियंत्रित कर सकती हैं, पान की पत्तियों में मौजूद डायबिटिक गुण के कारण ब्लड शुगर को नियंत्रित किया जा सकता है।

4. भूख को बढ़ाने में

पान के पत्ते के फायदे भूख से संबंधित समस्याओं या पेट खराब होने की स्थिति में भी देखे जाते हैं। यदि पान के पत्ते को भूख लगने के समय खाया जाए तो पान के पत्ते भूख लगने वाले हारमोंस को ट्रिगर करने में सक्षम होते हैं जिससे कि बार बार भूख लगने की समस्या दूर हो जाती है। साथ ही पान के पत्ते पेट से तमाम अवशोषित पदार्थों को बाहर निकाल कर आपकी भूख को सही रखने में मदद करते हैं।

5. मूत्र वर्धक के रूप में

यदि पान की पत्तियों को पीसकर उस का रस निकाला जाए और उस रस को दूध में मिलाकर सेवन किया जाए तो शरीर में होने वाली पानी की अवधारणा क्षमता को सुधारा जा सकता है, ऐसा करने से पीड़ित व्यक्ति को काफी राहत मिलती है इसीलिए पान के पत्ते को एक अच्छा मूत्र वर्धक भी माना जाता है।

6. पाचन संबंधी समस्या में

पान का पत्ता पाचन संबंधी समस्याओं में काफी फायदेमंद होता है । जब आप पान के पत्ते को चबाते हैं तो आपकी लार ग्रंथि सक्रियता में सुधार होता है इसीलिए जब भी आप कुछ खाते हो तो उसमें से ज्यादा मात्रा में लार मिल पाता है। इससे यह फायदा होता है कि लार में पाए जाने वाले एंजाइम खाद्य पदार्थों को अच्छे से तोड़ पाते हैं और इस वजह से पाचन तंत्र अच्छे से काम करना शुरू कर देता है।

7. घाव के उपचार में

यदि किसी व्यक्ति को चोट लग जाए तो उसके घाव पर पान की पत्तियों का रस निकालकर लगाने से घाव में संक्रमण नहीं होता क्योंकि इसके पत्तों में घाव से सक्रमण को दूर करने के गुण पाए जाते हैं।

इसीलिए इसे प्रभावित क्षेत्र में लगाकर उस जगह को किसी कपड़े से बांध ले, इससे घाव में संक्रमण फैलाने वाले विषाणु नष्ट हो जाएंगे।

8. मुहांसों को दूर करने में

पान के पत्ते में विषाणुओ को खत्म करने के गुण पाए जाते हैं इस वजह से पान के पत्ते मुहासे, खुजली, एलर्जी आदि समस्या का इलाज करने में सक्षम होते हैं। मुहांसों पर पान के पत्तों को लगाने के लिए पत्तियों को पीसकर उनका रस निकाल कर रस में हल्दी मिलाकर लगाया जाता है और जल्दी ही यह सारी समस्या दूर हो जाती है ।यही नहीं पान के पत्ते का रोगाणु रोधी गुण आपकी त्वचा को संक्रमण से भी बचाता है।

9. बालों के लिए पान के पत्ते का फायदा

पान के पत्ते का उपयोग बालों के झड़ने से संबंधित समस्याओं के लिए किया जाता है। इसके लिए पान के पत्ते को पीसकर इसे नारियल तेल के साथ मिलाकर पेस्ट बनाना होगा फिर इस पेस्ट को स्कैल्प पर लगाया जाता है ऐसा करने से धीरे-धीरे आपकी बालों से जुड़ी समस्याएं खत्म हो सकती है और बालों के झड़ने की समस्या भी काफी हद तक कम होती है।

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > भांग के बीज के ये चमत्कारिक गुण नहीं जानते होंगे आप

पान के पत्ते के नुकसान (Nuksan/Side Effects of Paan in Hindi)

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि पान के पत्ते कैसे बनती है काफी सारे फायदे होते हैं लेकिन फायदों के साथ ही इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं जो इस प्रकार है –

  • यदि आप पान के पत्ते का अधिक मात्रा में सेवन करते हैं तो आपको एलर्जी की समस्या भी हो सकती है।
  • पान के पत्तों के अधिक सेवन से मसूड़ों में दर्द जैसी समस्या होने लगती है।
  • यदि कोई व्यक्ति पान के पत्तों का अधिक सेवन करता है तो उसका ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है।
  • पान के पत्ते के साथ तंबाकू के उपयोग से कई बीमारी हो सकती है।
  • यदि आप पान के पत्ते का अधिक सेवन करते हैं तो ओरल कैंसर से नहीं बच सकते।
  • गर्भवती औरत को पान का सेवन नहीं करना चाहिए नहीं तो गर्भस्थ शिशु पर बुरा प्रभाव पड़ेगा।

पान खाने का सही तरीका –

पान को लोग शौकिया तौर पर खाते हैं और कुछ लोग धर्म के आधार पर भी इसे खाते हैं।
पान कसैला पदार्थ होता है इसीलिए इसे खाना खाने के तुरंत बाद खाना चाहिए जिससे कि भोजन का पाचन अच्छे से हो सके।

पान बनाते समय उसमें चूना कत्था डालना चाहिए। सुबह के पान में सुपारी थोड़ी ज्यादा मात्रा में होनी चाहिए और दोपहर के पान में कत्था ज्यादा डालना चाहिए व शाम के पान में चुना ज्यादा डालना चाहिए। पान की सिरा को नहीं खाना चाहिए माना जाता है कि इसे खाने से बुद्धि का नाश होता है।

जब पान को चबाते हैं तो जो रस पहले बनता है उसे थूक दे और बाद में बनने वाला रस रेचक होने के कारण थूकना नहीं चाहिए और  आखिर में बनने वाला रस रसायन माना जाता है तो इसी कारण इसको निगल लेना चाहिए।

👉 यह पोस्ट पढ़े > एलोवेरा है कई गुणों का कुदरती खजाना, जाने इसके फायदे

FAQ (पान के बारें में सवाल-जबाब)

पान खाने से कौन सी बीमारी होती है?

यदि पान को रोजाना किसी तम्बाकू से सम्बन्धित उत्पाद के साथ खाया जाता है तो मुँह का कैंसर हो सकता है। अन्य बीमारियो के बारे में हमने ऊपर पोस्ट में बताया है।

पान खाने के क्या नुकसान है?

पान के प्रतिदिन सेवन करने से एलर्जी, जबड़े में समस्या आदि हो सकती है। इसके अन्य नुकसान ऊपर लेख में बताये है।

पान कब खाना चाहिए?

पान को भोजन के बाद खाना चाहिए। ऐसा करने से भोजन जल्दी पच जाता है एवं पान का शरीर पर नकारात्मक प्रभाव भी नहीं पड़ता।

ध्यान देने योग्य –

चूँकि पान में कई गुण पाए जाते है इसलिए इसका सेवन पुरे भारतवर्ष में किया जाता है। लेकिन कुछ लोगो में इस से एलर्जी भी होती देखी गयी है। यदि आप पान खाना शुरू करे रहे है तो पहले कुछ दिन खाए एवं देखे की कही यह आपके शरीर पर कोई नकारात्मक प्रभाव तो नहीं डालता।

👉 पोस्ट पढ़े – मखाने खाने से होते है यह रोग दूर

आज हमने क्या जाना?

आज हमने पान के गुणों (Paan in Hindi) के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की। हमने पान के फायदे (Paan Khane Ke Fayde), पान के पत्ते के नुकसान (Paan Ke Nuksan), तथा पान के उपयोग (Uses of Betel Leaf in Hindi) आदि पर भी चर्चा की। आशा करते है पान के पत्तों के बारे में लिखा यह आर्टिकल आपको बहुत पसंद आया होगा। ऐसी ही जानकारी के लिए हमारे लेख पढ़ते रहे।

👉 सबसे अधिक पसंद किये जाने वाले लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *