इसबगोल के 9 बहुत ही चमत्कारिक फायदे | Isabgol Ke Fayde

इसबगोल खाने के फायदे (Isabgol Ke Fayde) इसबगोल भूसी के फायदे, इसबगोल के नुकसान (Isabgol Ki Bhusi Ke Fayde, Isabgol Ke Nuksan, Psyllium in Hindi)

isabgol-ke-fayde-benefits-nuksan-uses-side-effects-upyog-in-hindi
Psyllium in Hindi – Isabgol Ke Fayde

भारत देश हमेशा से ही जमीन में उपजी चीजों को खाने में प्राथमिकता देने वाला देश रहा है। इस पिज़्ज़ा, बर्गर वाले समय में भी हम भारतवासी जमीन से सीधी आई चीजे अधिक खाते है। ऐसे ही पौधे पर लगने वाले गुणकारी बीज होते है इसबगोल। आपने भी मेरी तरह इसबगोल का नाम अवश्य सुना होगा, इसके कई गुण है जो कई रोगों को नियंत्रित करने में काम आते है। आइये जानते है इसबगोल के फायदे या इसबगोल की भूसी के फायदे

इसबगोल क्या है? (Isabgol in Hindi)

इसबगोल एक पौधे का बीज होता है, जिस पौधे से यह प्राप्त होता है उसका नाम प्लांटागो ओवटा हैं। इस पौधे में छोटी-छोटी पत्तियां और फूल होते हैं।

इन पौधों की डालियों में बीज लगे होते हैं और इन बीजों के ऊपर सफेद रंग का पदार्थ चिपका रहता है इसे ही इस बगोल की भूसी कहते हैं। यह पौधा देखने में बिल्कुल गेहूं के जैसा होता है। इस बगोल की भूसी में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। भारत समेत कई देशों में इसबगोल की खेती की जाती है और भारत से कई पड़ोसी देशों में इसका निर्यात भी किया जाता है।

आयुर्वेदिक विशेषज्ञों का मानना है कि इसबगोल कब्ज से आराम दिलाने की सबसे उपयोगी घरेलू उपचार है।

इसबगोल की जानकारी के लिए तालिका –

औषधि इसबगोल (Psyllium husk)
वैज्ञानिक नाम प्लांटैगो ओवेटा
हिंदी नाम इसबगोल, इश्बगुल, इश्वघोल
परिवार प्लांटागिनेसी (Plantaginaceae)
बनावट व रंग नाव के आकार के सफ़ेद, लाल व गुलाबी
अधिक उत्पादन करने वाले देश भारत, ईरान, इराक
हिंदुस्तान में इसबगोल उत्पादक प्रदेश गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश

इसबगोल के पोषक तत्व (Nutrients)

जैसा कि हमने बताया इसबगोल कब्ज में राहत दिलाने का सबसे आसान घरेलू उपचार है क्योंकि इसमें काफी सारे पोषक तत्व होते हैं जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। यह पोषक तत्व इस प्रकार है-

प्रोटीन, बसा, फाइबर, कुल डाइटरी, कार्बोहाइड्रेट, शुगर, कैल्शियम, आयरन, पोटेशियम, सोडियम, फैटी एसिड और टोटल सेंचुरेटेड जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं।

नीचे एक तालिका दी गयी है जिसमे दिखाया गया है कि कुल 100 ग्राम इसबगोल में कितनी मात्रा में कौन-सा पौषक तत्व मौजूद रहता है। 100 ग्राम इसबगोल में कुल 375 किलो कैलोरी उपलब्ध रहती है।

पौषक तत्व मात्रा (ग्राम में)
कार्बोहाइड्रेट75
फाइबर 10
शर्करा 30
प्रोटीन 5
वसा .062
आयरन .5
कैल्शियम .018
पोटेशियम 2.62
सोडियम 2.88

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > चिया बीज ऐसे खाए, बीमारी चुटकियों में दूर भगाए

इसबगोल के उपयोग (Uses of Isabgol in Hindi)

हमारे शरीर को इसबगोल के सेवन का फायदा तभी मिलता है जब इसका उपयोग सही तरीके से किया जाए। इसीलिए हम आगे आपको इस बगोल के उपयोग का सही तरीका बताएंगे –

  • इस बगोल का सेवन करने से पहले इसे कुछ समय के लिए पानी में भिगोकर रखना चाहिए।
  • इसका सेवन दूध के साथ भी किया जा सकता है।
  • इसबगोल को त्रिफला चूर्ण में मिलाकर भी खा सकते हैं।
  • दही के साथ भी इसका सेवन किया जा सकता है
  • इसका सेवन करने का सही समय सुबह और रात को खाना खाने के बाद होता है।
  • गर्भवती औरतों को इसका सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श कर लेना आवश्यक होता है।

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > भांग के बीज के जबरदस्त फायदे जिनके बारे में जरुर जाने

इसबगोल के फायदे (Isabgol Ke Fayde)

स्वास्थ्य से जुड़ी कई समस्याओं में इसबगोल काफी फायदेमंद होता है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व सेहत के लिए काफी लाभदायक होते हैं क्योंकि इन पोषक तत्व में काफी सारे औषधीय गुण होते हैं लेकिन फिर भी इससे किसी गंभीर बीमारी का इलाज नहीं किया जा सकता। यहाँ हम इसबगोल एवं इसबगोल की भूसी के फायदे के बारे में जान रहे है क्योंकि दोनों लगभग एक ही है। दोनों के फायदे एक ही है जो इस प्रकार है –

1. पाचन स्वास्थ्य के लिए

किसी को भी स्वस्थ रहने के लिए उसका पाचन का ठीक रहना बहुत जरूरी है। पाचन को स्वस्थ रखने के लिए इसबगोल मदद कर सकता है। एक अध्ययन से पता चला है कि इसमें लैक्सेटिव का प्रभाव होता है अपने लैक्सेटिव गुण के कारण यह पाचन क्रिया को अच्छी तरह से काम करने में मदद करता है।

2. कब्ज के लिए

आजकल कब्ज एक आम समस्या होती जा रही है। इसके उपचार के लिए हमें काफी सारी दवाइयां लेनी पड़ती है जो हमें कुछ समय के लिए तो राहत दिला देती हैं लेकिन कब्ज को खत्म नहीं कर पाती, पर इसबगोल में लैक्सेटिव प्रभाव के कारण यह मल निकासी की प्रक्रिया को आसान कर देता है जिससे कब्ज में बहुत आराम मिलता है।

3. कोलेस्ट्रॉल संतुलन के लिए

अगर कोलेस्ट्रॉल बढ़ेगा तो जाहिर है कि वजन भी बढ़ेगा । कोलेस्ट्रॉल को संतुलन में रखने के लिए इसबगोल काफी फायदेमंद हो सकता है क्योंकि इसमें फाइबर होता है और फाइबर युक्त आहार का सेवन करने से पेट लंबे समय तक भरा रहता है जिससे हमें भोजन करने की इच्छा कम होती है तो इस प्रकार हम कोलेस्ट्रॉल को कम करके अपने वजन को नियंत्रित कर सकते हैं।

4. मधुमेह के लिए

मधुमेह या डायबिटीज एक ऐसा रोग है जिसमें व्यक्ति को अपने खान पान पर विशेष ध्यान देना पड़ता है ताकि मधुमेह का जोखिम कम रहे। वैज्ञानिकों द्वारा किए गए एक शोध के अनुसार इसबगोल मैं फाइबर होता है, जिससे मधुमेह की स्थिति को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।
सॉल्युबल फाइबर ग्लूकोस के अवशोषण को लगभग 12% तक कम कर सकता है जिससे ब्लड शुगर की मात्रा को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है।

5. हृदय स्वास्थ्य के लिए

इसबगोल की भूसी हृदय के लिए काफी फायदेमंद हो सकती हैं। यह हृदय रोगों के खतरों को कम कर सकता है। एक शोध के अनुसार इसमें फाइबर की अच्छी मात्रा होती है इसीलिए इसके सेवन से सीरम कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित रह सकता है। सिरम कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित रहने से हृदय रोग का जोखिम कम हो सकता है।

6. आंतों और उत्सर्जन प्रणाली की सुरक्षा के लिए-

इसबगोल आतो को स्वस्थ रखने में काफी हद तक फायदेमंद हो सकता है। विशेषज्ञों के अनुसार इसका सेवन करने आत में पानी की मात्रा बढ़ जाती है जिससे शोच करने में आसानी हो जाती है जिस कारण हमारी आंतऔर उत्सर्जन प्रणाली स्वस्थ रहती है।

7. बवासीर में ईसबगोल के फायदे

इस रोग में रोगी को मल त्याग के समय खून आने की की समस्या होती है और साथ ही दर्द भी होता है। इस समस्या को कम करने के लिए इसबगोल काफी लाभकारी हो सकता है। दरअसल इसबगोल मैं फाइबर मौजूद होता है जिसके कारण इसबगोल सेवन से रक्त स्त्राव की समस्या कम हो सकती है।

यदि आपका पेट बहुत ही मुश्किल से साफ़ होता है मतलब मल त्याग के समय आपको बहुत जोर लगाना पड़ता है तो आपकी बवासीर की परेशानी अधिक बढ़ जाएगी। इसबगोल मल को मुलायम बनाता है जिस कारण मलद्वार से मल आसानी से त्याग हो जाता है। रात को सोते समय इसबगोल की भूसी गर्म पानी के साथ लेने से सुबह पेट अच्छे से साफ़ होता है।

8. डायरिया के लिए-

डायरिया में भी इसबगोल के सेवन से काफी फायदा मिल सकता है क्योंकि इसे खाने से शरीर में फाइबर की पूर्ति होगी जिससे डायरिया होने का खतरा कई गुना कम हो सकता है।

9. इसबगोल के फायदे लिवर के लिए

लिवर यानि यकृत मनुष्य का एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है, इसलिए इसका ख्याल रखना बेहद ही जुरु है। इसबगोल का सेवन करने के लिवर के लिए कई फायदे है जिनमे से कुछ निम्नलिखित है –

  • फैटी लिवर मतलब लिवर में सूजन एक गंभीर समस्या है। फैटी लिवर से राहत पाने के लिए इसबगोल का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • लिवर में अधिक दिक्कत पाचन में गड़बड़ी होने के कारण होती है। इसबगोल के इस्तेमाल से पाचन ठीक रहेगा तथा यकृत भी सेहतमंद रहेगा।
  • यकृत को तंदरुस्त बनाये रखने के लिए फाइबर की बहुत अधिक आवश्यकता होती है। इसबगोल में फाइबर भरपूर मात्रा में उपलब्ध होता है।

खाली पेट इसबगोल खाने के फायदे –

वैसे तो इसबगोल को खाना खाने के बाद ही लेने की सलाह दी जाती है, लेकिन इसे खाली पेट भी लिया जा सकता है। खाली पेट इसबगोल की भूसी लेने के कुछ फायदे है जो इस प्रकार है –

  • इसबगोल को सुबह में खाली पेट हलके गर्म पानी से ले ऐसा करने से वजन घटाने में मदद मिलती है।
  • रिक्त पेट इसबगोल लेना आंतो ले लिय भी बहुत लाभकारी माना जाता है।
  • इसबगोल को सुबह लेने से कब्ज की समस्या भी दूर होती है। लेकिन मैं आपको सलाह दूंगा कब्ज दूर करने के लिए इसबगोल की भूसी रात को सोने के समय गर्म पानी से ले।
  • प्रात: काल इसबगोल का सेवन करना ह्रदय स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी होता है।

आपने खाली पेट इसबगोल के फायदे के बारे में जाने। आइये अब जानते है इसके नुकसान के बारे में –

यह भी पढ़े – अपेंडिक्स की बीमारी को खान-पान एवं परहेज से ऐसे करे ठीक

इसबगोल के नुकसान (Isabgol Ke Nuksan) –

जैसा कि हमने आपको बताया इसबगोल को खाने से काफी सारे फायदे मिलते हैं। फायदों के साथ ही इसके कुछ नुकसान भी है जिनके बारे में हम आपको बताएंगे –

  1. इसबगोल फाइबर युक्त होने के कारण इसके अधिक सेवन से पेट फूलने, सूजन और पेट में ऐठन जैसी समस्याएं हो सकती हैं।
  2. अगर किसी व्यक्ति को गले से कुछ भी निगलने में कठिनाई होती है तो उसे इसका सेवन नहीं करना चाहिए।
  3. यदि किसी व्यक्ति को आंतों की समस्या है तो उसे भी इसबगोल को नहीं खाना चाहिए।
  4. डायबिटीज के रोगी को इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए क्योंकि इसके सेवन से ब्लड शुगर लेवल कम होने का जोखिम हो सकता है।
  5. इसबगोल में लैक्सेटिव गुण होने के कारण इसके अधिक सेवन से कब्ज जैसी समस्याएं हो सकती है।

इसबगोल कब खाना चाहिए? (When to Eat)

इसबगोल के बारे में सबसे अधिक पूछे वाला प्रश्न है कि इसे कब खाना सबसे बढ़िया है। इसबगोल एक गुणकारी औषधि है इसलिए इसे किसी भी समय लिया जा सकता है लेकिन कुछ परेशानियों के लिए एक निश्चित समय पर लेना उचित होता है।

यदि आपको कब्ज की समस्या है तो आपको इसे रात में सोते समय गर्म पानी से सेवन करना चाहिए। दस्त की दिक्कत होने पर इसबगोल को दही के साथ किसी भी समय खाया जा सकता है।

सबसे बढ़िया इसबगोल की पहचान कैसे करें –

सबसे बढ़िया इसबगोल के लिए पहले हम इसके प्रकारों का अध्ययन करेंगे तभी पता चलेगा कि कौन सा इस बगोल बढ़िया होता है।

इसबगोल के पौधे दो प्रकार के होते हैं। पहले प्रकार के पौधों के बीजों पर श्वेत झिल्ली होती है जिसे सफेद इसबगोल कहते हैं।

दूसरे प्रकार के पौधे के बीज काले रंग के होते हैं।

सफेद बीजों में औषधीय गुण अधिक होते हैं और काले रंग के बीजों को औषधि के रूप में प्रयोग नहीं किया जा सकता।

इसीलिए सफेद रंग के बीजों को सबसे बढ़िया इसबगोल माना जाता है। यह हमें बाजार से उपलब्ध होते हैं।

यदि आप सबसे अच्छी किस्म के इसबगोल का सेवन करना चाहते है तो इसकी खेती कर सकते हैं। जिससे आपको बिना मिलावट के इसबगोल प्राप्त होंगे।

जरूर पढ़े – मर्द को ना मर्द कर देने वाली बीमारी शीघ्रपतन का गारंटी का इलाज

इसबगोल खाने का सही तरीका (How to Eat Isabgol in Hindi)

किसी भी चीज का सेवन सही मात्रा में करना बहुत ही ज्यादा आवश्यक होता है। इसी प्रकार इसबगोल का सेवन भी सीमित और सही मात्रा में करना चाहिए।

इसके सेवन हम खाना खाने के बाद कर सकते हैं। इसके सेवन के लिए एक गिलास गर्म पानी में दो चम्मच इसबगोल की डालें और इस को मिलाकर पिए। दही में भी दो चम्मच इसबगोल को मिलाकर खा सकते हैं। दही में इसका सेवन दस्त को कम करने के लिए किया जाता है।

FAQ (इसबगोल के बारे में सवाल-जबाब)

इसबगोल कितने दिन खाना चाहिए?

इसबगोल का सेवन कई दिनों तक लगातार किया जा सकता है। क्योंकि इसमें फाइबर अधिक मात्रा में इसलिए 10 दिन खाने के बाद कुछ दिन इसे नहीं खाना चाहिए। इस बारे में सही जानकारी के लिए डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।

पेट साफ करने के लिए इसबगोल कैसे खाएं?

पेट साफ़ करने के लिया 2 चम्मच इसबगोल को रात में हल्के गर्म पानी के साथ खाएं।

कब्ज के लिए इसबगोल का प्रयोग कैसे करें?

कब्ज में इसबगोल को सोते समय गुनगुने जल के साथ प्रयोग करना चाहिए।

ध्यान देने योग्य

इसबगोल एक बहुत ही गुणकारी औषधि है इसमें कोई संदेह नहीं, लेकिन जरुरी नहीं सभी के लिए यह एक सा काम करे एवं लाभकारी हो। इसलिए आवश्यक है आप इसके प्रयोग में लाने से पहले अपने चिकित्सक से सम्पर्क करे।

आज हमने क्या जाना?

आज हमने इस ब्लॉग में इसबगोल (Isabgol in Hindi) के बारे में विस्तार से बात की। हमने इसबगोल के फायदे (Isabgol Ke Fayde) या इसबगोल की भूसी के फायदे (Isabgol Ki Bhusi Ke Fayde) , इसबगोल के नुकसान (Isabgol Ke Nuksan) एवं इसबगोल के उपयोग आदि के बारे में जाना। उम्मीद है आपको यह आर्टिकल बेहद पसंद आया होगा।

सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *