ज्वार खाने के 9 लाजबाब फायदे | Jowar in Hindi

ज्वार क्या है (Jowar in Hindi) ज्वार की रोटी खाने के फायदे, ज्वार की रोटी खाने के नुकसान, उपयोग (Jwar or Jowar Ki Roti Khane Ke Fayde, Nuksan, in Hindi)

sorghum-jwar-jowar-in-hindi-fayde-nuksan
ज्वार खाने के फायदे – Jwar in Hindi

भारत में ऐसे बहुत ही कम लोग होंगे जिन्होंने ज्वार का नाम नहीं सुना होगा। ज्वार का उपयोग हमारे इस देश में प्राचीन समय से ही रहा है। हम हमेशा सही इसके लाभों से लाभान्वित होते रहे है। इसके कई गुण है जो इसे एक दैनिक जीवनचर्या में शामिल करने वाला आहार बनाते है। आइये जानते है ज्वार क्या है एवं ज्वार के फायदे और नुकसान के बारे में –

Table of Contents

ज्वार क्या होता है (Sorghum or Jowar in Hindi)

ज्वार भारत में उगाई जाने वाली प्रमुख फसलों में से एक प्रमुख फसल है। यह कम वर्षा वाले क्षेत्रों में अनाज तथा चारा, दोनों के लिए बोई जाती है। यह जानवरों के लिए एक महत्वपूर्ण एवं पौष्टिक चारा होता है। ज्वार की फसल भारत में लगभग सवा चार करोड़ एकड़ भूमि में उगाई जाती है। माना जाता है कि यह एक प्राचीन अनाज है।

यह अनाज दिखने में छोटा ,गोल और सफेद या पीले रंग का होता है।
भारत के अलावा ज्वार अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और अन्य दक्षिणी पूर्वी एशियाई देशों में उगाया जाता है। यह अनाज पश्चिमी देशों में कम प्रचलित है लेकिन फिर भी दुनिया के सबसे ज्यादा उगाए जाने वाले अनाजों में इस का पांचवा स्थान है। हर साल 57 .6 मिलियन टन के करीब इसकी पैदावार होती है।

ज्वार में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Nutrients)

ज्वार एक प्राचीन अनाज है और इसमें काफी सारे पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं। इसमें विटामिन बी कांपलेक्स, मिनरल्स, प्रोटीन जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। इनके अतिरिक्त ज्वार में अधिक मात्रा में कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन और फास्फोरस भी पाया जाता है। ज्वार में फाइबर भी होता है जो पाचन को सुधारने में मदद करता है और साथी पेट की समस्या से भी बचाता है।

इन पोषक तत्वों से दांतो की देखभाल में मदद मिलती है। और इसके दांतो की ओर खास देखभाल के लिए ज्वार के दानों की राख बनाकर मंजन के रूप में प्रयोग करें। इस मंजन को इस्तेमाल करने से दांतों का दर्द दूर हो जाता है।

इसलिए ज्वार में मौजूद पोषक तत्व स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी लाभकारी है।

ज्वार के उपयोग (Uses of Jowar in Hindi)

ज्वार का सेवन हमारी भारतीय संस्कृति में प्राचीन समय से होता आ रहा है इसीलिए इसे एक उत्तम अनाज माना जाता है और साथ ही साथ इसका उपयोग औषधि के रूप में भी किया जाता है। इसके उपयोग के बारे में कुछ बिंदुओं के माध्यम से जानेंगे –

  • ज्वार डायबिटीज को नियंत्रित करता है इससे मधुमेह की समस्या नहीं होती।
  • ग्लूटेन फ्री होने के कारण ज्वार स्वास्थ्य के लिए उपयोगी होता है।
  • ज्वार के सेवन से हड्डियां मजबूत बनती है।
  • ज्वार का सेवन करने से मोटापे पर नियंत्रण किया जा सकता है।
  • गठिया के रोग में ज्वार का सेवन काफी उपयोगी होता है।
  • ज्वार का सेवन करने से त्वचा के कैंसर से बचा जा सकता है।
  • ज्वार में फाइबर होने के कारण इसका सेवन करने से पाचन तंत्र स्वस्थ रहता है।
  • इसमें मौजूद पोषक तत्व के कारण दांतो को भी मजबूती मिलती है।
  • ज्वार का सेवन तनाव को दूर करने में भी उपयोगी माना जाता है।

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > चिया बीज ऐसे खाए, रोग चुटकियों में दूर भगाए

ज्वार की रोटी खाने के फायदे (Jowar Ki Roti Khane Ke Fayde)

ज्वार एक ऐसी फसल है जो कम वर्षा में उगाई जाती है। इसे पशुओं के लिए एक पौष्टिक चारा माना जाता है। इसकी लगभग 2 दर्जन से अधिक प्रजातियां पाई जाती है। इसकी बायकलर प्रजाति को ही मानव खा सकते हैं। आइये जानते है Jawar Khane Ke Fayde के बारे में विस्तार से –

1. पाचन तंत्र के लिए ज्वार की रोटी खाने के फायदे

ज्वार को पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है क्योंकि इसमें फाइबर मौजूद होता है ऐसा कहा जाता है कि पाचन क्रिया को बेहतर बनाने के लिए फाइबर युक्त भोजन का सेवन करना अच्छा होता है। ऐसे में ज्वार की रोटी के सेवन से पाचन क्रिया में सुधार किया जा सकता है। 1 दिन में एक बार ज्वार खाने से पूरे दिन की 48 % तक फाइबर की पूर्ति हो जाती है।

2. हड्डियों के लिए

ज्वार की रोटी के सेवन से मनुष्य की हड्डियों को भी मजबूती मिलती है क्योंकि हड्डियों की मजबूती और विकास के लिए कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है और यह पोषक तत्व ज्वार में पाए जाते हैं। यह दोनों तत्व हड्डियों के बढ़ती उम्र के साथ कमजोर होने के खतरे को कम कर देते हैं यही कारण है कि ज्वार की रोटी का सेवन फायदेमंद माना जाता है।

3. शरीर को ऊर्जावान बनाने में फायदेमंद है ज्वार

ज्वार की रोटी के सेवन से लंबे समय तक शरीर में पर्याप्त ऊर्जा बनी रहती है क्योंकि ज्वार में नियासिन नामक तत्व पाया जाता है जिस को विटामिन b3 के नाम से भी जाना जाता है।
इस पोषक तत्व का काम यह है कि यह शरीर में भोजन को पचाकर ऊर्जा में बदलने में मदद करता है जिससे शरीर पूरे दिन ऊर्जावान बना रहता है। और व्यक्ति को थकान नहीं होती है।

4. हृदय के लिए ज्वार के फायदे

ज्वार की रोटी का सेवन हृदय के लिए भी काफी फायदेमंद होता है जैसा कि आप पहले ही जान चुके हैं कि इसमें फाइबर भरपूर मात्रा में होता है और यह फाइबर शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने और बुरे कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। शरीर में कोलेस्ट्रॉल का नियंत्रण स्तर हृदय संबंधित बीमारियों से बचाता है।

5. तनाव को दूर करने के लिए खाए ज्वार

यदि कोई व्यक्ति हमेशा तनाव में रहता है और थकान महसूस करता है तो इस समस्या से निजात पाने के लिए ज्वार की रोटी के सेवन करने से लाभ मिल सकता है क्योंकि ज्वार में विटामिन बी 6 पाया जाता है।

यह विटामिन न्यूरोट्रांसमीटर को रिलीज करने के लिए जरूरी होता है इसी कारण ज्वार का सेवन करने से व्यक्ति का मन अच्छा हो जाता है और तनाव भी नहीं रहता।

6. कैंसर से बचाव में ज्वार के फायदे

ज्वार की रोटी का सेवन कैंसर से बचाव में भी काफी फायदेमंद माना गया है। 2018 में वैज्ञानिकों द्वारा किए गए एक अध्ययन में यह पता चला है कि ज्वार के चोकर में एंटी कैंसर गुण होते हैं। इसमें मौजूद गुण शरीर में कैंसर की कोशिकाओं को पनपने से रोकते हैं। ज्वार की रोटी का लगातार सेवन करने से स्तन कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है।

7. प्रोटीन की पूर्ति के लिए ज्वार खाने के फायदे

सभी जीवित प्राणियों के लिए उनके अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रोटीन आवश्यक पोषक तत्व होता है। और ज्वार में प्रोटीन की भरपूर मात्रा होती है, एक कप ज्वार में 22 ग्राम प्रोटीन होता है।
यदि हम प्रोटीन युक्त भोजन ग्रहण करते हैं तो इससे नए सेल्स के निर्माण में सहायता मिलती है। और इसके सेवन से मसल्स को मजबूती मिलती है। इसके अतिरिक्त प्रोटीन का सेवन करने से काफी समय तक भूख ना लगने का एहसास होता है जिस कारण हमें शरीर का वजन कम करने में मदद मिलती है।

8. एनीमिया में है ज्वार लाभदायक

ज्वार की रोटी का सेवन शरीर में आयरन की कमी को दूर करने के लिए भी किया जा सकता है क्योंकि आयरन की कमी के कारण किसी भी स्वास्थ्य मनुष्य के शरीर में एनीमिया रोग होने का खतरा बढ़ जाता है। माना जाता है कि एक कप ज्वार में लगभग 8.45 मिलीग्राम आयरन होता है।

महिलाएं गर्भावस्था के दौरान आयरन की कमी को दूर करने के लिए डॉक्टर के परामर्श से ज्वार की रोटी को अपने खानपान में सम्मिलित कर सकती है।

9. ग्लूटेन फ्री ज्वार की रोटी खाने के फायदे

ग्लूटेन फ्री अनाज को शरीर को स्वस्थ रखने के लिए डाइट में शामिल कर सकते हैं। ज्वार भी एक ग्लूटेन फ्री अनाज होता है। ग्लूटेन एक तरह का प्रोटीन है जिसके अधिक सेवन से बीमारियां बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है इसीलिए ग्लूटेन का सेवन कम मात्रा में किया जाता है। ज्वार की रोटी में ग्लूटेन लगभग ना के बराबर पाया जाता है। इसीलिए ज्वार को हम अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं।

👉 पोस्ट पढ़े – एलोवेरा कारगर है त्वचा जैसे रोगों में, जाने इसके बारे में अधिक

ज्वार की रोटी खाने के नुकसान (Jowar Ki Roti Khane Ke Nuksan)

जैसा कि हमने आपको ज्वार खाने के फायदे बताएं। जैसे ज्वार की रोटी खाने के कुछ फायदे हैं वैसे ही इसके अधिक सेवन से कुछ नुकसान भी हो सकते हैं जिनको कुछ बिंदु के माध्यम से हम आपको बताते है –

  • ज्वार की रोटी के अधिक सेवन से ब्लड शुगर लेवल अचानक से बढ़ सकता है।
  • कुछ लोगों को ज्वार की रोटी के सेवन से एलर्जी भी हो सकती है।
  • फाइबर से भरपूर होने के कारण ज्वार के अधिक सेवन से वजन भी बढ़ सकता है।
  • ज्वार के अधिक सेवन से पेट से जुड़ी समस्या भी हो सकती है।
  • ज्वार के कच्चे दाने का सेवन बिल्कुल ना करें ऐसा करने से पाचन तंत्र में गड़बड़ी हो सकती है।
  • यदि आप किसी भी बीमारी की प्रतिदिन दवाई ले रहे हैं तो ज्वार का सेवन करने से पहले डॉक्टर का परामर्श लें ,नहीं तो कुछ भी स्वास्थ्य नुकसान हो सकता है।

👉 जरूर पढ़े – मखाने बना सकते है आपको ताकतवर, जाने इसके लाभ

ज्वार की रोटी कैसे बनाएं (Jwar Ki Roti Kaise Banaye)

जैसा कि हमने पहले भी बताया है कि ज्वार औषधीय गुणों से भरपूर अनाज है। इसकी रोटी खाने में बहुत ही स्वादिष्ट और स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी फायदेमंद होती है।

अब हम आपको ज्वार की रोटी बनाने के बारे में बताएंगे।

ज्वार की रोटी बनाने के लिए सबसे पहले ज्वार के आटे को अच्छे से तैयार करना बहुत जरूरी होता है। तो इसके लिए सबसे पहले हम एक कटोरी ज्वार का आटा और एक कटोरी पानी व एक चम्मच घी लेंगे। ज्वार के आटे को तैयार करने के लिए आटे के बराबर ही पानी लगता है।

अब उस एक कटोरी पानी को गर्म होने के लिए रख देंगे जब पानी अच्छी तरह से गर्म हो जाए तो उसमें एक चम्मच जो हमने घी लिया था वो डाल देंगे, घी के अच्छी तरह पानी में घुलने के बाद उस पानी में जो आटा हमने लिया था वह डाल देंगे और गैस को बंद कर देंगे। गैस को बंद करने के बाद उस मिश्रण को अच्छी तरह चलाएंगे। जब पानी और आटे का घोल अच्छी तरह से मिल जाए तो कुछ समय के लिए उसे ढक कर छोड़ देंगे।

👉 यह भी जाने – इसबगोल है कई गुणों से भरपूर

10 से 15 मिनट के बाद उस आटे के मिश्रण को हाथों से गुथेगे। जब ज्वार का आटा अच्छी तरह से तैयार हो जाए। तो उसकी मोटी या पतली लोई बनाकर बेलन से रोटी बनाएंगे। रोटी बनाते वक्त रोटी के किनारे थोड़े फटेंगे। क्योंकि यह एक मोटा अनाज होता है आप चाहे तो किसी गोलाकार के बर्तन से रोटी के किनारों को अलग कर सकते हैं।

इसके बाद तवे को गरम होने के लिए रख देंगे, तवा गर्म होने पर रोटी को तवे पर डालेंगे। और उसके ऊपर थोड़ा-थोड़ा पानी लगाते रहेंगे जिससे कि रोटी जगह-जगह से फटे नहीं। यदि पानी नहीं लगाएंगे तो रोटी फट जाएगी। रोटी को पलटने के बाद दूसरी तरफ भी ऐसे ही पानी लगाएंगे और उसके बाद रोटी को सीधे आंच पर सेंक लेंगे। और हमारी रोटी बन कर तैयार हो जाएगी।

ज्वार के आटे के पापड़ कैसे बनाएं?

जैसा कि हम सभी जानते हैं एक मोटा अनाज होता है। यह ग्लूटेन फ्री अनाज होता है। इससे बनने वाले खाद्य पदार्थ बूढो और बच्चों दोनों के लिए अच्छे होते हैं। इसीलिए आज हम आपसे बताएंगे कि ज्वार के पापड़ कैसे तैयार किए जाते है। आइए जानते हैं ज्वार के पापड़ को तैयार करने का तरीका –

  • ज्वार के पापड़ बनाने के लिए हम घर में ही तैयार किया गया ज्वार का आटा लेंगे क्योंकि बाजार से लाया आटा जल्दी खराब हो जाता है।
  • आटे को किसी कप से नाप लेंगे।
  • तो हम एक कप आटा लेंगे, एक कप आटे के लिए 10 कप पानी लगेगा और कुछ मसाले इस में डालने के लिए।
  • पानी को किसी बड़े बर्तन में गर्म होने के लिए रख देंगे, पानी गर्म हो जाएगा तो उसने पहले मसाले ऐड करेंगे, उसके बाद ज्वार का आटा थोड़ी-थोड़ी मात्रा में मिलाएंगे , जिससे कि आटे में कुछ गुठलिया ना पड़े।
  • आटे को चमचे की मदद से पानी में अच्छी तरह मिलाएंगे, इसके बाद भी आटे में गुठलियां पड़ने लगे तो गैस को बंद कर दे ग्राइंडर की मदद से मिश्रण को अच्छी तरह ग्रेड करेंगे।
  • उसके बाद आटे और पानी के इस मिश्रण को 20 से 25 मिनट धीमी आंच पर चमचे से चलाते हुए पकाएंगे।
  • जब मिश्रण अच्छी तरह पक जाए तो किसी प्लेट में थोड़ा सा मिश्रण डाल कर देख लेंगे कि यह तैयार हुआ या नहीं। प्लेट में मिश्रण डालने पर यदि वह न बहे समझे कि मिश्रण पापड़ बनाने के लिए तैयार है।
  • इसके बाद गैस को बंद करके गर्म-गर्म मिश्रण से ही ज्वार के पापड़ तैयार करेंगे।
  • किसी बड़े कपड़े या बड़ी सी पन्नी पर चमचे की मदद से पापड़ बनाएंगे और 3 से 4 दिन तक धूप में सुखाएगे।
  • जब पापड़ सूख जाएंगे तो उनको कपड़े से अलग करने के बाद तेल में भून लेंगे।

इस तरह हमारे ज्वार के पापड़ बनकर तैयार हो जाएगे।

FAQ (ज्वार के बारे में सवाल-जबाब)

ज्वार की तासीर कैसी होती है?

ज्वार की तासीर ठंडी होती है। इसके कई फायदे है जानने के लिए पोस्ट पर क्लिक करे।

ज्वार कैसा होता है?

ज्वार की बनावट थोड़ी बाजरे जैस होती है। ज्वार के बीज छोटे, मुलायम, हरे, लाल एवं भूरे रंग के होते है। अधिक जानकरी के लिए पूरी पोस्ट पढ़े।

ज्वार को कैसे खाना चाहिए?

ज्वार का सबसे अधिक लाभ रोटी बनाकर खाने में है।

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > दालचीनी खाने के है अद्भुत लाभ

ध्यान देने योग्य

ज्वार एक बहुत ही गुणकारी अनाज है एवं दुनिया भर में करोड़ो लोगो द्वारा इसका सेवन किया जा सकता है। यदि आपको गेहू से एलर्जी है तो आप बाजरे या ज्वार का आटा खा सकते है। क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति का शरीर अलग होता है इसलिए यह जरुरी नहीं कि ऊपर उल्लेखित सभी फायदे सभी व्यक्तियों के लिए एक से काम करे।

हमने क्या जाना?

इस लेख में हमने ज्वार (Jowar in Hindi) के बारे में जानकरी प्राप्त करने की कोशिश की। हमने ज्वार के फायदे या ज्वार की रोटी खाने के फायदे (Jowar Ki Roti Khane Ke Fayde), ज्वार की रोटी के नुकसान (Jowar Ki Roti Ke Nuksan), ज्वार के उपयोग (Jwar Ke Upyog) आदि के बारे में भी जाना। उम्मीद करते है यह पोस्ट आपके लिए बहुत उपयोगी सिद्ध हुई होगी।

👉 सबसे अधिक पढ़ी जाने वाले लेख

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *