यूटीआर नंबर क्या होता है | UTR Number in Hindi

यूटीआर नंबर क्या होता है (What is UTR Number in Hindi), यूटीआर नंबर की फुल फॉर्म, कैसे बनता हैं, कैसे पता करे (UTR Number Full Form, Tracking, Uses in Hindi)

यूटीआर-नंबर-क्या-होता-है-uses-full-form-hindi
यूटीआर नंबर क्या होता है – UTR Number Kya Hota Hai

दोस्तों आपने कभी ना कभी फ्लिपकार्ट अमेजॉन या किसी अन्य वेबसाइट की मदद से ऑनलाइन शॉपिंग तो जरूर की होगी। यदि नहीं भी की है तब भी आप इसके बारे में जानते तो होंगे ही।

जब हम कोई प्रोडक्ट आर्डर करते हैं परचेस करने के लिए तब उस समय हमें एक ट्रैकिंग आइडी या रेफरेंस नंबर दिया जाता है जिसकी मदद से हम अपने प्रोडक्ट का स्टेटस चेक कर पाते हैं कि वह कब डिस्पैच हुआ, कब शिफ्ट हुआ, अभी कहां है और कब डिलीवर होगा इत्यादि।

इसी तरह जब हम बैंक में पैसों का लेनदेन करते हैं तो हमें एक UTR Number मिलता है जिसकी मदद से हम अपने पैसों के लेनदेन का करंट स्टेटस चेक कर पाते हैं। आज के इस आर्टिकल में हम इसी के बारे में बात करेंगे की UTR क्या है और ट्रैक करें यदि आप भी जानना चाहते हैं कि UTR क्या है, UTR Full Form in Hindi और UTR Number कैसे पता करें, तो इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ें और पसंद आने पर शेयर करें।

यूटीआर नंबर क्या होता है – UTR Number Kya Hota Hai

जब हम किन्ही दो बैंकों के बीच में पैसों का लेनदेन करते हैं तो प्रत्येक लेनदेन के लिए यह UTR Number जारी किया जाता है जो कि पूरे दुनिया में किसी दूसरे नंबर से भिन्न होता है। मतलब किसी भी स्थिति में दो यूटीआर नंबर समान नहीं हो सकते।

सामान्यतः हमें UTR नंबर की आवश्यकता नहीं पड़ती है इसलिए हम ज्यादा उस पर ध्यान नहीं देते हैं लेकिन यदि आपका ट्रांजैक्शन सक्सेसफुल नहीं होता है मतलब आपके दो बैंकों के बीच का लेनदेन सफलतापूर्वक नहीं होता है तब आप उस लेनदेन के स्टेटस को चेक करने के लिए UTR नंबर की जरूरत पड़ती है।

जिसकी मदद से आप कस्टमर केयर में कॉल करके या अन्य किसी माध्यम से अपना ट्रांजैक्शन स्टेटस चेक कर सकते हैं इसीलिए UTR को ट्रांजैक्शन नंबर भी बोलते हैं।

डिजिटाइजेशन के शुरुआती दौर में भारत में इंटरनेट बैंकिंग में पैसों का लेनदेन करने के लिए दो विकल्प थे NEFT & RTGS. इन दोनों ही तरीकों में UTR नंबर जनरेट होता है NEFT के UTR नंबर में अंको की संख्या 16 होती है जबकि RTGS में अंको की संख्या 22 होती है।

UTR का Full Form क्या हैं – UTR Full Form in Hindi

UTR का फुल फॉर्म “Unique Transaction Reference Number” है। जिसे हिंदी में अद्वितीय लेनदेन संदर्भ संख्या के नाम से जाना जाता हैं।

यूटीआर नंबर कैसे बनता है – Creation of UTR Number in Hindi

जैसा कि हमने पहले ही आपको बताया UTR का अर्थ ट्रांजैक्शन रेफरेंस नंबर होता है। जो कि पूरी दुनिया में किसी दूसरे ट्रांजैक्शन का नहीं हो सकता मतलब एक ट्रांजैक्शन के लिए जारी किया गया UTR नंबर, किसी दूसरे ट्रांजैक्शन के लिए जारी किए गए यूटीआर नंबर से कभी मैच नहीं कर सकता। तो अब आपके मन में यह सवाल जरूर आ रहा होगा कि आखिर UTR नंबर कैसे बनता है जो कभी एक जैसा नहीं होता। आइये जानते हैं इस बारे में –

नेफ्ट ट्रांजैक्शन (NEFT Transaction) का UTR Number

NEFT Transaction के UTR number का फॉर्मेट – BANKSYYJJJNNNNNN की तरह का होता हैं।

NEFT का Full Form “National Electronic Funds Transfer” होता है। अगर हम NEFT के UTR नंबर की बात करें तो इसमें कुल मिलाकर 16 अंक होते हैं –

  • जिनमें से प्रारंभ के चार अंक पैसा भेजने वाले अकाउंट के IFSC कोड को बताते हैं।
  • पांचवा डिजिट उस बैंक के सर्वर को बताता है।
  • छठा और सातवां डिजिट उस वर्ष को बताता है जिस वर्ष में ट्रांजैक्शन हो रहा है।
  • आठवां, नवा व दसवां डिजिट जूलियन दिनांक को बताता है।
  • और अंतिम के 6 डिजिट उस ट्रांजैक्शन के सीरियल नंबर यानी सीक्वेंस नंबर को बताते हैं कि ट्रांजैक्शन का सीरियल क्या है इस प्रकार नेफ्ट का UTR नंबर बनकर तैयार होता है और यह यूनिक हो जाता है।

आरटीजीसी ट्रांजैक्शन (RTGS Transaction) का UTR Number

RTGS Transaction के UTR Number का फॉर्मेट – BANKRNYYYYMMDDNNNNNNNN की तरह का होता हैं।

RTGS की फुल फॉर्म Real Time Gross Settlement होती है। आरटीजीएस ट्रांजैक्शन के UTR नंबर में 22 अंक होते हैं –

  • जिनमें से प्रारंभ के चार अंक NEFT की तरह ही बैंक के आईएफएससी कोड को बताते हैं।
  • पांचवा अंक आरटीजीएस ट्रांजैक्शन संबंधी होता है।
  • छठवां अंक ट्रांजैक्शन में इस्तेमाल किए गए मीडियम को बताता है, मतलब कि ट्रेजरी द्वारा ट्रांजैक्शन हुआ है इंटरनेट बैंकिंग द्वारा हुआ है या डेबिट कार्ड द्वारा हुआ या किसी अन्य माध्यम से हुआ है।
  • सातवां, आठवां ,नवा ,दसवां अंक उस जूलियन समय को बताते हैं जिसमें ट्रांजैक्शन हो रहा है
  • और 11वां 12वां समय को दर्शाता है।
  • 13वां 14वां अंक तारीख को बताते हैं।
  • अंतिम 8 अंक ट्रांजैक्शन के क्रम को यानी सीरियल नंबर को बताते हैं इस प्रकार आरटीजीएस का ट्रांजैक्शन रिफरेंस नंबर बनकर तैयार होता है।

UTR नंबर कैसे पता करें – UTR Number Tracking in Hindi or How to Find An UTR Number in Hindi

सामान्यतः UTR नंबर की आवश्यकता हमें बहुत कम पड़ती है। यदि हम बैंक के माध्यम से ऑफलाइन जा कर ट्रांजैक्शन करते हैं तो अधिकतर चांसेस होता है कि आपका ट्रांजैक्शन तुरंत ही सफलतापूर्वक क्रेडिट या डेबिट हो जाता है और आप बैंक से स्टेटमेंट लेकर या अपनी पासबुक में प्रिंट करवा कर देख लेते हैं जहां पर आप का UTR नंबर लिखा होता है। लेकिन इस स्थिति में तो आप वैसे भी बैंक से डायरेक्ट पूछताछ करके अपना स्टेटस चेक कर सकते हैं।

लेकिन जब आप किसी ऑनलाइन बैंकिंग या फिर इंटरनेट बैंकिंग के द्वारा ट्रांजैक्शन करते हैं और वह पेंडिंग आ जाता है मतलब बीच में अटक जाता है। तो उस स्थिति में आपको अपना UTR Number जानने के लिए इंटरनेट बैंकिंग में अपना आईडी और पासवर्ड की मदद से लॉगइन करना होगा। लोगिन करने के बाद वहां पर आप मिनी स्टेटमेंट या डिटेल स्टेटमेंट जब ओपन करेंगे तो आपको दिखेगा की जो अंक आपके आईएफएससी कोड से शुरू होता है वही आपका यूटीआर नंबर होता है। तो इस प्रकार उस नंबर की मदद से आप यूटीआर नंबर ट्रैकिंग स्टेटस कस्टमर केयर के माध्यम से या अन्य माध्यम से जान सकते हैं।

यूटीआर नंबर के क्या उपयोग हैं – UTR Number Uses in Hindi

यूटीआर नंबर के मुख्य दो उपयोग हैं, जिनकी बजह से इसे इस्तेमाल करना फायदेमंद साबित होता हैं। ये हैं UTR Number के उपयोग –

1. अटके हुए लेन-देन के बारे में पूछताछ

कभी-कभी ऐसा होता हैं कि हम किसी अन्य व्यक्ति के खाते में पैसे भेजते हैं लेकिन किसी कारणवश पैसे उस व्यक्ति के खाते में नहीं पहुँचते । ऐसी स्तिथि में हम घबरा जाते हैं कि अब क्या करना हैं तथा इस लेन-देन को ठीक करने के लिए बैंक जाते हैं। फिर बैंक में हमे कई जानकारी देनी पड़ती हैं अपना पैसा वापस पाने के लिए, जिस कारण हमारा बहुत समय खर्च होता हैं।

यदि आपके पास UTR Number हैं तो आप सीधे बैंक के ग्राहक केयर नंबर पर कॉल कीजिये तथा बैंक के कर्मचारी को उस सौदे का यूटीआर नंबर बता दीजिये। इस से आपकी समस्या का भी जल्द निवारण हो जाएगा तथा आपका समय भी अधिक खर्च नहीं होगा।

2. पिछले लेन-देन का स्टेटस जानने के लिए

ऐसे मामले बहुत देखे जाते हैं कि जिनमे एक व्यक्ति दुसरे को पैसे भेजता हैं तथा दूसरा इन्सान पैसे प्राप्त हुए ही नहीं ऐसा कहता हैं, और अगर पैसे प्राप्त हुए भी हैं तो उतने प्राप्त नहीं हुए जिनते भेजने थे। ऐसे स्तिथि में बड़ी ही उलझन वाली स्तिथि पैदा हो जाती हैं, समझ नहीं आता क्या किया जाये। ऐसी उलझन को UTR Number की सहायता से शुगमता से निपटाया जा सकता हैं। आप पैसा भेजने वाले बैंक से यूटीआर नंबर प्राप्त करके पैसा प्राप्त करने वाले बैंक को दे सकते हैं जिससे पूरा स्पष्ठ हो जायगा कि समस्या क्या हैं।

FAQ (सवाल-जबाब)

सवाल – RTGS और NEFT में क्या अंतर है?

जबाब – RTGS और NEFT में सबसे बड़ा अंतर यह हैं कि NEFT के द्वारा हम जितना चाहें उतना पैसा ट्रांसफर कर सकते है तथा RTGS में हम दो लाख से कम पैसे ट्रान्सफर नहीं कर सकते।

सवाल – NEFT ट्रांजेक्शन का यूटीआर नंबर कितने अंको का होता हैं?

जबाब – NEFT ट्रांजेक्शन का यूटीआर नंबर 16 अंकों का होता हैं

सवाल – RTGS ट्रांजेक्शन का यूटीआर नंबर कितने अंको का होता हैं?

जबाब – RTGS ट्रांजेक्शन का यूटीआर नंबर 22 अंकों का होता है।

सवाल – NEFT करने में कितना टाइम लगता है?

जबाब – NEFT द्वारा ट्रान्सफर किये गए पैसे को दुसरे व्यक्ति के बैंक अकाउंट में पहुँचने में तकरीबन एक घंटे तक का समय लग जाता हैं। कभी- कभी NEFT से भेजे गए पैसे को सामने वाले के खाते में ट्रान्सफर होने में 4-5 घंटे का समय भी लग सकता हैं।

हमने आज क्या जाना?

दोस्तों आज के लेख में हमने यूटीआर नंबर क्या होता है, UTR Full Form in Hindi, UTR नंबर कैसे पता करें, UTR नंबर कैसे बनता है, NEFT का UTR Number, आरटीजीएस का UTR नंबर आदि के बारे में जाना उम्मीद है कि यह लेख UTR क्या है आपको पसंद आया होगा।

यह भी पढ़े

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *