Liz Truss Resigns: ब्रिटेन की प्रधानमंत्री लिज ट्रस के इस्तीफे के पीछे कही इंडिया तो नहीं

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री लिज ट्रस ने दिया इस्तीफा (UK Prime Minister Liz Truss Resigns), लोग कयास लगा रहे हैं कि भारत का उनके इस्तीफे के पीछे हाथ हो सकता हैं –

Liz-Truss-resigns-as-uk-britain-prime-minister-rishi-sunak
Liz Truss Resigns as UK prime minister

कल गुरुवार को एक बड़ी खबर आई जिसने पूरी दुनिया में हलचल सी मचा दी खबर थी कि ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री लिज ट्रस ने अचानक अपने पद से इस्तीफा (Liz Truss Resigns) दे दिया।

उनके इस्तीफे के पीछे बहुत सारे कयास लगाए जा रहे हैं कोई ब्रिटेन की डूबती इकोनॉमी को उनके इस्तीफा का कारण मान रहा है तो कोई इसके पीछे कहीं ना कहीं भारत का हाथ होने का दावा भी कर रहा है।

लोग कह रहे हैं कि जिस तरह अमेरिका की राजनीति में खास तौर पर राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार में रूस का हस्तक्षेप रहता है उसी प्रकार इस बार ब्रिटेन की राजनीति में भारत का हस्तक्षेप रहा है।

गौरतलब है कि ब्रिटेन की प्रधानमंत्री लिज ट्रस का कार्यकाल सबसे कम समय का रहा है इसलिए इस खबर ने सभी को चौका दिया है।

आइए जानते हैं लिज ट्रस का कार्यकाल कितना लंबा चला तथा उनके प्रधानमंत्री पद के त्यागपत्र के पीछे क्या कारण हो सकते हैं तथा जानते हैं आखिर लिज ट्रस कौन है व कैसे ब्रिटेन की प्रधानमंत्री बनी?

कौन है लिज ट्रस (Who is Liz Truss)

लिज ट्रस अभी ब्रिटेन की प्रधानमंत्री है वह 28 अक्टूबर 2022 तक ब्रिटेन की प्रधानमंत्री रहेगी, जब तक नया पीएम नहीं चुना जाता. लेकिन उन्होंने अपने पद से त्याग की फ्होसा 20 अक्टूबर को ही कर दी हैं।

लिज ट्रस का पूरा नाम मैरी एलिजाबेथ ट्रस है जो एक ब्रिटिश राजनीतिज्ञ है तथा वह कंजरवेटिव पार्टी की लीडर भी है।

ब्रिटेन का प्रधानमंत्री बनने से पहले उन्होंने इस देश में कई महत्वपूर्ण पदों पर काम किया है। प्रधानमंत्री बनने से पूर्व वह, बोरिस जॉनसन के साथ 2021-22 में विदेश सेक्रेटरी भी रही है।

कितने दिन चला लिज ट्रस का कार्यकाल? (Liz Truss as UK PM)

लिज ट्रस का कार्यकाल 6 सितंबर 2022 से शुरू हुआ था वह महारानी एलिज़ाबेथ के शासन में ब्रिटेन की 56वी प्रधानमंत्री बनी थी. अगर उनके कार्यकाल की समय सीमा को देखा जाए तो वह सबसे कम समय तक ब्रिटेन की प्रधानमंत्री रही है।

उनका कार्यकाल सिर्फ 45 दिनों का रहा है लिज ट्रस ने 20 अक्टूबर को प्रधानमंत्री पद से त्याग करने की घोषणा कर दी है लेकिन उनका कार्यकाल अभी 28 अक्टूबर तक चलेगा जब तक बिट्रेन के लिए नया प्रधानमंत्री नहीं चुन लिया जाता।

लिज ट्रस ने क्यों दिया इस्तीफा? (Reasons of Resign)

लिज़ के इस्तीफे के पीछे कोई एक कारण नहीं है कई सारी वजह है जिस वजह से लिज ट्रस ने अपने पद से त्यागपत्र दे दिया है। आइये डालते है कुछ कारणों पर नजर –

१. आर्थिक संकट है सबसे बड़ा कारण

हमें पता होना चाहिए कि इस समय ब्रिटेन की आर्थिक हालत कुछ ठीक नहीं है ब्रिटेन में महंगाई बहुत अधिक बढ़ती जा रही है जिस कारण वहां के लोग काफी परेशान हैं।

लिज ट्रस से पहले बोरिस जॉनसन ब्रिटेन के प्रधानमंत्री थे लेकिन उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था उनके इस्तीफे का सबसे बड़ा कारण था इंग्लैंड को आर्थिक मजबूती पर ना ले जा पाना।

काफी कोशिशें करने के बाद भी बोरिस जॉनसन ब्रिटेन को महंगाई से निकालकर आर्थिक रूप से मजबूत करने के रास्ते पर नहीं ला पा रहे थे यही कारण था कि उन्होंने प्रधानमंत्री पद छोड़ दिया था।

उनके पद छोड़ने के बाद ही ब्रिटेन की पार्टियों में इलेक्शन हुए जिसमें पार्टी के सदस्यों ने ऋषि सुनक तथा लिज ट्रस के बीच से लिज ट्रस को ब्रिटेन का नया प्रधानमंत्री चुना था।

लेकिन लिज ट्रस भी बोरिस जॉनसन की ही तरह ब्रिटेन को आर्थिक संकट से उबारने में नाकामयाब रही. इसी कारण उन्होंने प्रधानमंत्री का पद छोड़ने की घोषणा कर दी।

२. राजनीतिक संकट है पद छोड़ने का कारण

ब्रिटेन में आर्थिक हालत ठीक नहीं है जिस वजह से प्रधानमंत्री पर राजनीतिक पार्टियों द्वारा बहुत अधिक दबाव बनाया जा रहा था।

अब तो हालत ऐसी हो गई थी कि उनकी पार्टी के ही सदस्य हैं उन पर कोई बड़ा एक्शन लेने का दबाव बना रहे थे।

लेकिन कई प्रयासों के बावजूद लिज ट्रस कुछ भी करने में सफल नहीं हो रही थी इसलिए पार्टी के अन्य सदस्यों के दबाव में आकर भी लिज ट्रस ने अपने पद से इस्तीफा दिया है।

३. जनता का विरोध भी है एक कारण

जब से लिज ट्रस ब्रिटेन की प्रधानमंत्री बनी थी तब से देश की आर्थिक स्थिति सुधरने की बजाय कमजोर ही होती जा रही थी। जबकि प्रधानमंत्री बनने से पहले लिज ट्रस ने जनता से वादा किया था कि वह यूके को आर्थिक रूप से मजबूत करेगी तथा महंगाई भी घट जाएगी।

लेकिन कुछ भी वैसा नहीं हुआ जैसा लिज ट्रस ने अपनी जनता से वादा किया था.

झूठे वादों से दुखी होकर तथा महंगाई के आसमान छूने की वजह से जनता उनका बहुत अधिक विरोध कर रही थी यह भी एक कारण है उनके प्रधानमंत्री पद को छोड़ने का।

कौन हो सकते हैं नए प्रधानमंत्री? (New British Prime Minister)

जैसे ही लिज ट्रस ने अपने पद से इस्तीफा दिया तभी से ब्रिटेन के सभी लोग तथा साथ में पूरी दुनिया जानना चाहती है कि ब्रिटेन का अगला प्रधानमंत्री कौन होगा।

सबसे ज्यादा संभावना बन रही है कि ऋषि सुनक को ब्रिटेन का अगला प्रधानमंत्री बनाया जा सकता है. वैसे तो कई अन्य लोग भी पीएम बनने की रेस में है लेकिन ऋषि सुनक की सम्भावना सबसे अधिक देखी जा रही हैं।

कौन है ऋषि सुनक? (Who is Rishi Sunak)

ऋषि सुनक भारतीय मूल के ब्रिटिश नागरिक है, उनका संबंध भारत से रहा है।

ऋषि सुनक वही व्यक्ति है जो लिज ट्रस के प्रधानमंत्री बनने से पहले उनके सबसे बड़े प्रतिद्वंदी थे।

पार्टी के सदस्यों द्वारा लिज ट्रस तथा ऋषि सुनक में से किसी एक को प्रधानमंत्री पद के लिए चुना जाना था सभी को आश थी कि भारतीय मूल के ऋषि सुनक को ही ब्रिटेन का अगला प्रधानमंत्री चुना जाएगा।

लेकिन पार्टियों के सदस्यों के अधिक वोट लिज ट्रस को मिलने के कारण वहीं ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री बनी।

क्या प्रधानमंत्री लिज के इस्तीफे के पीछे भारत का हाथ है? (Who made Liz Truss Resigns)

सबसे पहले आपको बता दें कि अभी 2 दिन पहले ब्रिटेन की गृहमंत्री सूएला ब्रेवरमैन ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था उनके इस्तीफे की सबसे बड़ी वजह भारत का उनके खिलाफ विरोध था।

दरअसल बात यह थी कि कुछ दिन पहले पूर्व गृहमंत्री सूएला ब्रेवरमैन ने भारत के नागरिकों को लेकर एक बहुत बड़ी बात कही थी उन्होंने कहा था क्योंकि भारत के लोग इंग्लैंड में आकर बस रहे हैं इसलिए यहां पर दंगे फसाद आदि में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है।

उनके ऐसे कथन पर भारत ने उनका कड़ा विरोध किया तथा ब्रिटेन से की जा रही कई डील को कैंसिल कर दिया था।

और भी कई बजाई थी जिसकी वजह से सूएला का उनके ही देश में विरोध होने लगा था।

भारत के विरोध के कारण तथा उनके अपने देश के लोगों के विरोध के दबाव में आकर ही गृहमंत्री सूएला ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

जैसे कि भारत का पहला ब्रेवरमैन के इस्तीफे के पीछे कहीं ना कहीं हाथ था।

उसी तरह लोग अंदाजा लगा रहे हैं कि ब्रिटेन की प्रधानमंत्री लिज ट्रस के इस्तीफे (Liz Truss Resigns) के पीछे भी भारत का ही हाथ है।

इस बात में कितनी सच्चाई है यह तो पता नहीं, लेकिन यह अभी तक कोई भी साबित नहीं कर पाया कि इसमें सच में भारत का हाथ है. यह सिर्फ नाम मात्र की अफवाह ही बताई जा रही है।

उम्मीद करते है आपको यह आर्टिकल बहुत पसंद आया होगा। आप इस आर्टिकल को www.theinfoexpert.com/news पर पढ़ रहे हैं।

अन्य पोस्ट भी पढ़े –

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *