100% ठीक कर देगा अपेंडिक्स, परहेज व खानपान का यह तरीका | Appendix in Hindi

अपेंडिक्स क्या है (Appendix in Hindi), अपेंडिक्स के लक्षण क्या हैं, अपेंडिक्स ऑपरेशन साइड इफेक्ट्स, अपेंडिक्स में परहेज व खानपान, अपेंडिक्स ऑपरेशन के बाद सावधानियां (Appendix in Hindi, Side Effects, Operation. Diet Plan for Appendix in Hindi)

appendix-symptoms-causes-diet-operation-side-effect-precautions-in-hindi
अपेंडिक्स में परहेज व खानपान – Appendix in Hindi

बीमारी तो तकरीबन हर परिवार में आम बात सी हो गई है और इसका मुख्य कारण है, बदलता खान पान जिसके कारण जीवन शैली में तेजी से बदलाव आ रहे है। पेट की बीमारी मुख्यतः 30 से 40 वर्ष के लोगों में अधिक देखने को मिलती है। आज के समय में शायद ही कोई ऐसा इंसान हो जिसके जीवन में कब्ज, पेट दर्द, पेट में ऐठन, दस्त जैसी पेट से संबंधित समस्याएं ना आती हो। लेकिन प्रस्तुत लेख के माध्यम से हम बात करने वाले है ऐसी ही पेट दर्द वाली एक बीमारी की जिसमे रोगी को पेट के दाहिनी ओर नाभि के पास दर्द महसूस होता है। इस बीमारी का नाम है अपेंडिक्स की सूजन या अपेंडिसाइटिस।

अपेंडिसाइटिस बीमारी में रोगी के अपेंडिक्स में सूजन आ जाती है जिसके कारण पेट में दर्द रहने लगता है। आईये इस बीमारी के बारे में विस्तार से जानते है साथ ही यह भी जानेंगे कि अपेंडिक्स क्या है, अपेंडिसाइटिस में क्या खाना चाहिये और क्या परहेज करने चाहिये।

Table of Contents

अपेंडिक्स क्या है? (What is Appendix in Hindi)

मेडिकल जगत के इतनी तरक्की करने के बावजूद भी मानव शरीर के जिस अंग के बारे में हम लोग सबसे कम जानते है उन्ही में से मानव शरीर का एक आंतरिक अंग है अपेंडिक्स। अपेंडिक्स छोटी आंत और बड़ी आंत के बीच की एक कड़ी है जो लगभग हमारी छोटी उंगली जितना लंबा होता है यह आंत से जुड़ा होता है।

अपेंडिक्स का मानव शरीर में क्या उपयोग है?

कुछ दशक पहले डॉक्टरों का यह मानना था कि अपेंडिक्स का मानव शरीर में कोई भी उपयोग नहीं अर्थात यह शरीर में एक अनुपयोगी अंग है। कुछ डॉक्टर तो इस ऑर्गन को आज भी मानव शरीर का एक अनुपयोगी अंग मानते है लेकिन आपकी जानकारी के लिये बता दे शरीर का कोई भी अंग अनुपयोगी नही होता है। प्रत्येक अंग शरीर में कही ना कही कोई ना कोई अहम भूमिका अवश्य निभाता है ऐसे ही हमारे शरीर में अपेंडिक्स का उपयोग भी है।

अपेंडिक्स के भीतर पाचन क्रिया को सुचारू करने के लिये अच्छे बैक्टीरिया जमा होते हैं इसी के साथ अपेंडिक्स शरीर में प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाता है।

अपेंडिसाइटिस क्या होता है? (Appendicitis in Hindi)

अक्सर लोग अपेंडिसाइटिस बीमारी को अपेंडिक्स के नाम से जानते हैं। जबकि अब तक आप समझ ही चुके होंगे कि अपेंडिक्स तो मानव शरीर की आंतो से जुड़ा एक अंग होता है। इस अंग में जब कब्ज या किसी संक्रमण के कारण सूजन आ जाती है या फिर इस अंग के खुले सिरे से मल का कोई छोटा कण अंदर फंस जाता है तब उसी स्थिति में रोगी को दर्द होने लगता है जिसे अपेंडिसाइटिस की बीमारी कहते हैं। शुरुआत में इसके लक्षणों के रूप में पेट दर्द, कब्ज, जी मतलाना, हल्का सा उछाल होने पर नाभि के आसपास दर्द होना इत्यादि समस्याऐ देखने को मिल सकती है

अपेंडिक्स के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Appendix in Hindi)

अपेंडिक्स में सूजन मतलब एपेंडिसाइटिस के लक्षणों के बारे में जानना बहुत ही आवश्यक है। अपेंडिक्स के लक्षणों को ठीक समय पर पता लगने से इसका समय रहते इलाज किया जा सकता है। यदि स्थिति बिगड़ने से पहले उपचार नहीं किया जाए तो ऑपरेशन ही एकमात्र विकल्प बचता है। अपेंडिक्स के लक्षण कुछ इस प्रकार है.

  • नाभि के ऊपर की तरफ या नीचे की तरफ दर्द होना
  • नाभि का पास होने वाला दर्द अपनी जगह बदल सकता है।
  • कब्ज की अधिक शिकायत
  • पेट का बहुत कठोर हो जाना जैसे सूजन आ गयी हो।
  • पेट में दर्द होने पर जी मचलना या उल्टी आ जाना
  • बहुत तेज ज्वर (बुखार) होना।
  • भूख में अचानक से कमी आ जाना।

हमारे शरीर का अंग अपेंडिक्स ऐसे ही कई लक्षणों से हमे एपेंडिसाइटिस बीमारी होने का संकेत देता है। यदि आप भी अपने साथ या किसी परिचित के साथ ऐसा होते देखते है तो नादारंदाज न करे।

अपेंडिक्स में सूजन आने के कारण (Causes)

बदलता खान पान ना जाने कितनी बीमारियां लेकर आ रहा है प्रत्येक परिवार में कोई ना कोई किसी न किसी प्रकार की बीमारी से ग्रसित मिल ही जाता है बीते कुछ सालों से अपेंडिसाइटिस के मरीजो की संख्या में वृद्धि देखने को मिल रही है। आइये इसके कारणों पर एक नजर डालते है।

● भोजन में फाईबर की कमी
● ज्यादा तला भूना खाना
● अत्यधिक मिर्च मसाले खाना
● पुरानी कब्ज और पेट में कीड़े द्वारा अपेंडिक्स संबंधित समस्या होना
● पेट में परजीवियों का बढ़ना
● स्वस्थ आहार का ना लेना
● पाचन तंत्र को नुकसान पहुंचाने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करना

अपेंडिक्स में सूजन आने पर क्या खाना चाहिये (Diet Plan for Appendix in Hindi)

अपेंडिक्स में सूजन या इंफेक्शन होने पर दर्द रहने लगता है उस समय रोगी को अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिये अपेंडिसाइटिस होने पर आपको खानपान में यह बात अवश्य ध्यान रखनी है कि आपको ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना है जो जल्दी और आसानी से पच जाऐ। कुछ खाद्य पदार्थ या पेय पदार्थ जो अपेंडिसाइटिस के मरीज को फायदा पहुंचा सकते हैं हमने नीचे प्रस्तुत लेख में साझा किये हैं।

अपेंडिसाइटिस के मरीज के लिये खाद्य सब्जी
मूली के पत्ते, गाजर, पलक, मशरूम इत्यादि

अपेंडिसाइटिस के मरीज के लिये खाद्य फल –
सेब, नाशपाती का जूस, जामुन, अनानास, संतरा व पपीता

अपेंडिसाइटिस के मरीज के लिये खाद्य अनाज –
ब्राउन राइस, दलिया, गेहूं व जौ

इसके अलावा आप निम्न आहार को भी अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकते है।

  • छाछ का नियमित रूप से रोजाना सेवन करें क्योंकि यह पाचन क्रिया को सुधारने में बहुत ही फायदेमंद होता है और यह खुद भी बड़ी ही आसानी से पच जाता है।
  • पानी का सेवन अधिक से अधिक करें अपेंडिसाइटिस के मरीज को पानी हर आधे घंटे बाद पीते रहना चाहिये।
  • अपेंडिसाइटिस होने पर रोगी को पोषक तत्वों से युक्त भोजन करना चाहिये
  • अपेंडिक्स में सूजन या इंफेक्शन होने पर आपको बहुत ही हल्का भोजन करना चाहिए जो जल्द ही पच जाऐ।
  • फाइबर युक्त सब्जियों व ताजी हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिये और ताजे फलों का सेवन करना चाहिये।
  • ग्रीन टी का एक बैग एक कप गरमा गर्म पानी में डालकर एक चम्मच शहद मिलाकर गर्म ही पिये इसे रोजाना पीने से आपके अपेंडिक्स में होने वाले दर्द में काफी हद तक आराम मिल सकता है।

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > डिप्थीरिया के लक्षण, उपचार व रोकथाम

अपेंडिक्स में सूजन आने पर परहेज

अगर परहेज की बात की जाए तो कोई भी बीमारी हो उसमे परहेज करना बहुत आवश्यक होता है परहेज दवाइयों से भी अधिक अपनी भूमिका निभाता है। अगर आप परहेज नहीं करोगे तो आपका दवाई खाने का कोई फायदा नहीं है बल्कि हो सकता है कि आपकी बीमारी और भी अधिक बढ़ जाए। इसलिए आपको यह ध्यान में जरूर रखना है कि आपकी बीमारी के अनुसार आपके लिये क्या क्या परहेज हो सकते हैं।

अपेंडिक्स के ऑपरेशन में आप 2 महीने का परहेज कर सकते है यह काफी है इसके अलावा आप अपने डॉक्टर की सलाह भी ले सकते है। नीचे बताई गई महत्वपूर्ण बातो को ध्यान में रखकर आप अपेंडिसाइटिस की बीमारी को बढ़ने से रोक सकते हैं।

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > अपेंडिक्स के 10 चमत्कारिक आयुर्वेदिक उपचार

अपेंडिक्स में क्या नहीं खाना चाहिये (What to Avoid)

जिस प्रकार अपेंडिसाइटिस के मरीज को यह ध्यान रखना है कि उसे क्या खाना चाहिये उसी प्रकार मरीज को यह भी अवश्य ध्यान रखना है कि उसे क्या नहीं खाना चाहिये।

  • अपेंडिक्स के रोगी को ज्यादा मिर्च मसाले वाला खाना अन्य अन्य कोई खाद्य पदार्थ नही खाना चाहिये।
  • अपेंडिसाइटिस होने पर रोगी को ड्राइफ्रूट्स नहीं खाने चाहिये। क्योंकि इससे आपके अपेंडिक्स में सूजन बढ़ सकती है।
  • अपेंडिक्स में सूजन होने पर फास्ट फूड बिल्कुल भी नहीं खाने चाहिए ऐसे चाऊमीन बर्गर आलू की टिक्की पिज्जा इत्यादि से दूरी बनाए रखे।
  • घी और तेल में तले भूने पदार्थों के सेवन से बचना चाहिये यह अपेंडिसाइटिस के रोगी के लिये और मुसीबत पैदा कर सकते है।

अपेंडिक्स का पता कैसे लगाया जाता है? (How to Diagnose Appendix in Hindi)

यह बीमारी मरीज के साथ साथ कभी तो डॉक्टर के लिये भी सिरदर्द बन जाती है डॉक्टर को यह पता लगाना बड़ा ही मुश्किल हो जाता है कि मरीज को होने वाला दर्द क्या बाकई ही अपेंडिसाइटिस का दर्द है या ये किसी ओर बीमारी के संकेत है।

इसका पता लगाने के लिये डॉक्टर मरीज का अल्ट्रासाउंड करते है इसके अलावा डॉक्टर पेशाब और रक्त की जांच के माध्यम से इस बीमारी का पता लगाते है। अल्ट्रासोनोग्राफी करने से भी इस रोग का पता लगाया जा सकता है।

अपेंडिक्स क्या खाने से होता है

अपेंडिसाइटिस या जिसे हम आम भाषा में अपेंडिक्स की बीमारी कहते है, उसके होने के तो कई कारण हो सकते है. लेकिन अनुभवी चिकित्सकों के अनुसार अपेंडिक्स हमारे खान-पान की बजह से ही होता है. आइये जानते है अपेंडिक्स क्या खाने से होता है –

  • बीजों को अपेंडिक्स होने का सबसे बड़ा कारण मन जाता है। इसलिए हमे फलों के बाज निकालकर खाने चाहिए तथा अन्य बीजों का सेवन कम करना चाहिए।
  • मिर्च का अधिक सेवन भी अपेंडिक्स होने का एक बड़ा कारण है।
  • अधिक तली-भुनी चीजे भी अपेंडिसाइटिस होने की प्रायिकता को बढ़ा सकती है।
  • खाना अच्छे से न पचना।
  • खाना जल्दी-जल्दी खाने से भी अपेंडिक्स हो सकता है, इसलिए खाना हमेशा चबाकर खाना चाहिए।

बीजों को ही अपेंडिक्स होने का मुख्य कारण माना जा सकता है। इसलिए हमे अनार के आलावा, अमरुद जैसे फलों के बीजों को कम ही खाना चाहिए।

अपेंडिक्स ऑपरेशन साइड इफेक्ट्स (Side Effects of Apendix Operaton in Hindi)

यह तो हम सभी जानते है चाहे ऑपरेशन किसी भी प्रकार का हो साइड इफेक्ट्स तो होते ही है। किसी भी ऑपरेशन से शरीर को उबरने में कई सप्ताह एवं महीनो का समय लग जाता है। यदि आपको अपेंडिक्स ऑपरेशन कराना पड़ रहा है तो आपको इन नकारात्मक प्रभावों के बारे में पता होना चाहिए –

  1. एपेंडेक्टोमी मतलब अपेंडिक्स के ऑपरेशन का सबसे आम साइड इफेक्ट्स घाव को संक्रमण देखा जाता है
  2. जहाँ से अपेंडिक्स को काटा गया है या चीरा लगाया गया है उस स्थान पर फोड़े बन सकते है।
  3. पेरिटोनियल गुहा में संक्रमण की समस्या पैदा हो सकती है।
  4. आंतो में रूकावटे पैदा हो सकती है।
  5. खून बहना
  6. आस-पास के अंगो में चोट

चिकित्सकों का कहना होता है कि यदि सही से खान-पान एवं रहन-सहन का ध्यान रखे तो अपेंडिक्स ऑपरेशन साइड इफेक्ट्स से बचा जा सकता है। आइये जानते है अपेंडिक्स ऑपरेशन के बाद सावधानियां क्या बरतनी चाहिए?

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > शीघ्रपतन का जबरदस्त आयुर्वेदिक ईलाज

अपेंडिक्स ऑपरेशन के बाद सावधानियां क्या बरतनी चाहिए? (Precautions)

अपेंडिक्स ऑपरेशन के करने के बाद यह जरुरी हो जाता है कि मरीज अधिक से अधिक अपना ध्यान रखे। हर छोटी से छोटी चीज का ध्यान रखने पर ही आप अपेंडिसाइटिस रोग के ऑपरेशन से होने वाली जटिलताओं से बच सकते है। आइये जानते है अपेंडिक्स ऑपरेशन के बाद के सावधानी बरते।

  • कुछ सप्ताह तक अधिक व्यायाम से दूर रहे, आराम से चलना आदि हलके व्यायाम ही करे।
  • किसी भी प्रकार का बजन न उठाये।
  • कपड़ो की साफ़-सफाई का विशेष ध्यान रखे।
  • भोजन बहुत ही सुपाच्य एवं हल्का ही ले।
  • तरल पदार्थ का अधिक से अधिक सेवन करे।
  • चिकित्सक से बाते करते रहे।

अपेंडिक्स का ऑपरेशन कराने के बाद क्या खा सकते हैं और क्या नहीं

सामान्यतः आप इसे इस प्रकार से समझ सकते है कि अगर आप अपने शरीर में किसी भी प्रकार का कोई ऑपरेशन करवाते हैं तो आपको अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिये और इसके अलावा आपको शुरुआत में ऑपरेशन के बाद की ही डाइट फॉलो करनी चाहिए, जैसे –

  • शुरुआत में बहुत ही हल्का आहार ले जैसे छाछ सबसे बेहतरीन चुनाव रहेगा अगर आप अपेंडिक्स निकलवा चुके है।
  • किसी भी प्रकार का दलिये का सेवन आप कर सकते है। हल्की मात्रा में दलिये का आप सेवन कर सकते है
  • ज्यादा फैट जमा होने वाला खाना नही खाए जिनमे कैलोरी की मात्रा अधिक हो ऐसे खाद्य पदार्थों को अभी आपको नही खाना चाहिये।
  • जैसा कि आप जानते ही होगे ऑपरेशन किसी भी प्रकार का हो ज्यादा ताला भूना आपको ऑपरेशन के ठीक बाद कुछ महीनो तक नहीं खाना चाहिये अपेंडिक्स निकलवाने के बाद भी आपको घी या रिफाइंड तेल संबंधित ज्यादा तले भूने आहार नहीं लेने चाहिये।

FAQ (सवाल-जबाब)

अपेंडिक्स के लक्षण क्या होते हैं?

नाभि के पास दर्द, जी मचलाना, पेट में बार-बार गैस बनना, कब्ज, पेट की सूजन आदि अपेंडिक्स के लक्षण है.

अपेंडिक्स के ऑपरेशन में कितना खर्च आता है?

अपेंडिक्स का ऑपरेशन का खर्चा चिकित्सक एवं अस्पताल पर निर्भर करते है फिर भी इसमें 20 से 40 हजार का खर्चा आ सकता है

अपेंडिक्स अल्ट्रासाउंड में आती है क्या?

अल्ट्रासाउंड करने से अपेंडिक्स के पता लगाया जा सकता है। अल्ट्रासोनोग्राफी भी इस रोग का पता लगाने का अच्छा माध्यम है।

ध्यान देने योग्य

किसी भी प्रकार की बीमारी का हर इन्सान पर अलग ढंग से प्रभाव होता है। इसलिए आवश्यक है उपरोक्त प्रस्तुत किसी भी जानकारी को अमल में लाने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श किया जाए। डॉक्टर की सलाह एवं सुझाव को कोई विकल्प नहीं होता है।

आज हमने क्या जाना?

आज हमने Appendix in Hindi के इस आर्टिकल में अपेंडिक्स क्या है, अपेंडिक्स के लक्षण क्या हैं?,
अपेंडिक्स ऑपरेशन साइड इफेक्ट्स, Diet Plan for Appendix in Hindi, अपेंडिक्स में परहेज व खानपान, अपेंडिक्स ऑपरेशन के बाद सावधानियां आदि के बारे में विस्तार से जाना। हम उम्मीद करते है यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा।

अन्य पोस्ट पढ़े

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *