अंजीर के ये 12 फायदे सुनकर चौंक जायेंगे आप | Anjeer Khane Ke Fayde

अंजीर खाने के फायदे (Anjeer Khane Ke Fayde) अंजीर के नुकसान, अंजीर के उपयोग, अंजीर के फायदे (Anjeer Ke Nuksan, Anjeer Ke Upyog, Anjeer Ke Fayde, Anjeer in Hindi)

fig-anjeer-khane-ke-fayde-benefits-nuksan-in-hindi
अंजीर खाने के फायदे – Fig in Hindi

मेवे हम सब भारतियों के जीवन में बहुत महत्व रखते है। आप सभी ने मेरी तरह बादाम, मुनक्का, मखाने, किशमिस, आदि का भरपूर मात्र में सेवन किया होगा। आज हम जिस सूखे मेवे की बात करने जा रहे है वह है अंजीर। आपने शायद अंजीर खाया हो या नहीं, परन्तु हो सकता है आप यह न जानते हो कि इसमें ऊपर लिखे गए सभी मेवों के गुण विधमान है। आइये जानते है अंजीर के फायदे और नुकसान के बारें में विस्तार से –

Table of Contents

अंजीर क्या है? (Anjeer in Hindi)

अंजीर एक वनस्पति वाले एक वृक्ष का एक फल है यह पक जाने पर पेड़ से गिर जाता है पके हुए फल को लोग खाते हैं और कुछ फलों को सुखा लिया जाता है और फिर उन्हें बाजार में बेचा जाता है।

इसके अलावा सूखे फलों को पीस लेते हैं और दूध और चीनी के साथ खाते हैं। यह एक बहुत ही गुणकारी फल होता है। इस फल से मुरब्बा भी बनाया जाता है। अंजीर के सूखे हुए फल में 62 से 63 प्रतिशत चीनी की मात्रा होती है जबकि पके हुए फल में 22% होती है।

अंजीर एक बहुत छोटा मध्य सागर क्षेत्र और दक्षिण पश्चिमी एशियाई क्षेत्र में पाया जाने वाला एक वृक्ष या झाड़ी है। उत्तरी भारत और तुर्किस्तान के बीच का भूखंड इस का उत्पत्ति स्थान माना जाता है। पुराने समय में लोग इसे बहुत पसंद किया करते थे।

यह दिखने में बहुत छोटा लेकिन गूलर के आकार का होता है, इस फल की अपनी कोई विशेष सुगंध नहीं होती लेकिन यह रसीला और गूदेदार होता है। रंग की बात करें तो यह रंग में हल्का पीला, गहरा सुनहरा या गहरा बैंगनी हो सकता है। इस फल का स्वाद इस बात पर निर्भर करता है कि इसे कहां उगाया गया है और यह कितना पका है, इसे छिलके, बीज और गुदे सहित खाया जाता है।

फल अंजीर
वैज्ञानिक नाम फ़िकस कैरिका (Ficus carica)
अंग्रेजी नाम Fig
परिवार मोरेसी (Moraceae)
बनावट व रंग लाल, पीले, काले, हरे आदि रंग का नाशपाती के जैसा
अधिक उत्पादन कर्ता देश  तुर्की, मिस्र, अल्जीरिया, ईरान, मोरक्को
भारत में अंजीर का सर्वाधिक उत्पादन करने वाले प्रदेशमहाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक आदि

अंजीर के औषधीय गुण (Properties of Anjeer in Hindi)

अंजीर के फल को एक सूखे मेवे के रूप में प्रयोग किया जाता है। अजीर के पौधे को एक वनस्पतिक पौधा माना जाता है इसमें काफी सारे औषधीय गुण पाए जाते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छे होते हैं। इसमें पाए जाने वाले औषधि गुण इस प्रकार है।

  • अंजीर तत्काल रक्त पित्त नाशक, सिर और खून की बीमारी में लाभकारी होता है।
  • अंजीर का सेवन नकसीर और कुष्ट में भी लाभकारी माना जाता है।
  • अंजीर के औषधि के रूप में प्रयोग किए जाने वाले भाग अंजीर की जड़, अंजीर की पत्ती, अंजीर का तना, अंजीर के फल, अंजीर का तेल होते है।
  • इनके अलावा पुरानी से पुरानी खांसी, स्वास रोग, रुधिर जमाव, त्वचा की गर्मी,कब्ज, सफेद दाग, कमजोरी, दाद और दिल रोग जैसे उपचार अंजीर की घरेलू दवा, होम्योपैथिक दवा, और आयुर्वेदिक दवाओं द्वारा किया जाता है।

अंजीर में में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Nutrients of Anjeer in Hindi)

अंजीर को एक पौष्टिक और स्वादिष्ट फल होने के कारण काफी पसंद किया जाता है। अंजीर में काफी सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसमें एंटी ऑक्सीडेंट की मात्रा बहुत अधिक होती है इसीलिए यह इम्यूनिटी बढ़ाने का काम करता है। इसके अलावा अंजीर में कई प्रकार के विटामिंस और मिनरल्स भी पाए जाते हैं।

माना जाता है कि 100 ग्राम सूखे अंजीर में 209 कैलरी, 4 ग्राम प्रोटीन, 48 पॉइंट 6 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 1.5 ग्राम फैट और 9.2 ग्राम फाइबर प्राप्त होता है जबकि 100 ग्राम अंजीर के ताजे फल में इन सभी तत्वों की मात्रा कम होती है। इसीलिए सूखा अंजीर ज्यादा फायदेमंद होता हैं। इनके अलावा अंजीर में शुगर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, फोलेट आदि तत्व पाए जाते हैं।

तालिका – इस तालिका में दर्शाया गया है कि 100 ग्राम ताजे अंजीर खाने से हमे कितने पौषक तत्वों की प्राप्ति होती है. ताजे अंजीर की इतनी मात्रा से हमे 74 किलो कैलोरी प्राप्त होती है. source

पौषक तत्व मात्रा (ग्राम में)
कार्बोहाइड्रेट 19.18
प्रोटीन 0.75
कुल वसा .30
फाइबर 2.9
शुगर 16.26
कैल्शियम .035
मैग्नीशियम .017
पोटेशियम 0.232
अन्य

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > भागं के बीज खाए, चुटकियों में बीमारी दूर भगाए

अंजीर के उपयोग (Anjeer Ke Upyog / Uses)

जैसा कि हमने बताया अंजीर को एक वनस्पति के रूप में जाना जाता है। यह हमारे स्वास्थ्य के लिए कई तरह से उपयोगी होता है। अंजीर के औषधीय गुण प्राप्त करने के लिए इसका विभिन्न तरीकों से उपयोग किया जा सकता है।

  • अंजीर को छिलके के साथ या छिलका उतार कर खा सकते हैं।
  • यदि आप कहीं घूमने जा रहे हैं तो सूखे अंजीर को अपने साथ ले जा सकते हैं क्योंकि सूखे अंजीर को साथ ले जाना आसान होता है।
  • अंजीर को सलाद में डाल कर भी खाया जा सकता है।
  • अंजीर के फल को आइसक्रीम या केक के ऊपर सजा कर भी खाया जा सकता है।
  • सूखे अंजीर में, ताजे अंजीर से ज्यादा शुगर की मात्रा होती है इसलिए यदि आप घर में कुछ मीठा बनाएं तो चीनी की जगह सूखे अंजीर का उपयोग कर सकते हैं।
  • अंजीर का उपयोग मुरब्बा बनाने में भी किया जाता है।
  • सूखे अंजीर का उपयोग दलिए में भी किया जाता है, उसमें यह मिठे का काम करता है।
  • सूप में डालकर भी सूखे अंजीर का सेवन कर सकते हैं।

अंजीर खाने के फायदे (Anjeer Khane Ke Fayde)

माना जाता है कि अंजीर के सेवन से स्वास्थ्य अच्छा रहता है। साथ ही कई बीमारियों में भी यह कई हद तक राहत पहुंचा सकता है लेकिन किसी गंभीर बीमारी में डॉक्टर से इलाज करवाना सही होगा। चलिए आगे बताते हैं कि यह किस प्रकार फायदेमंद होता है –

1. पाचन और कब्ज के लिए अंजीर के फायदे

यदि आप अंजीर का सेवन नियमित रूप से करते हैं तो इसके सेवन से पाचन तंत्र अपना काम अच्छी तरह से करता है और अंजीर में फाइबर पाया जाता है जो कब्ज से बचा सकता हैं। पाचन तंत्र को स्वस्थ बनाये रखने के लिए रात में दो से तीन अंजीर पानी में भिगो दीजिये औ सुबह इसे शहद के साथ या फिर ऐसे ही खा ले, इस तरह अंजीर का सेवन करने से पाचन तंत्र को काफी फायदा मिलेगा। अंजीर में फाइबर काफी मात्रा में होता है जिस कारण से ये मल को मुलायम बना देता है और पेट शुगामता से साफ़ हो जाता है।

2. वजन को नियंत्रित करने में अंजीर का उपयोग

जिस मेवे में कैलोरी जितनी अधिक होगी वह उतना ही वजन बढ़ाने में कारक सिद्ध होगा। क्योंकि अंजीर में कैलोरी कम मात्रा में एवं फाइबर अधिक मात्रा में होता है तो यह बजन नहीं बढ़ने देता। यदि अंजीर सूखे है तो आप वजन घटा भी सकते है, क्योंकि इसमें वसा कम उपलब्ध होता है।

3. हृदय के लिए अंजीर के फायदे

अंजीर न केवल वजन को नियंत्रित करता है बल्कि यह मेवा हृदय के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। दिल को सुरक्षित रखने एवं स्वस्थ बनाये रखने के लिए दो बिंदु महत्वपूर्ण होते है पहला वजन को बढ़ने न देना एवं शरीर में लिपोप्रोटीन की उपलब्धता अधिक होना। अंजीर का नियमित उपयोग इन दोनों बिन्दुओं की पूर्ति करता है।

4. लीवर के लिए अंजीर खाने के फायदे

लीवर के लिए अंजीर के पेड़ की पत्तियों को लाभदायक माना जाता है। माना जाता है कि अंजीर के फल के साथ-साथ उसके पत्ते भी सेहत के लिए काफी अच्छे हो सकते हैं जो लिवर को स्वस्थ रखने में काफी कारगर सिद्ध हो सकते हैं।

अंजीर की पत्तियों में हेप्टोप्रोटेक्टिव या लीवर संरक्षण गुण पाया जाता है, जिसका कार्य हानिकारक तत्वों से यकृत का बचाव करना है। आप सोचा रहे होंगे अंजीर की पत्तियों का सेवन कैसे किया जाए। आप पत्तियों को धूप में सुखा ले एवं उसक पाउडर बना कर सेवन कीजिये। पाउडर के आलावा भी अंजीर की पत्तियों को चाय में डालकर सेवन किया जा सकता है।

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > जौ के पानी के अजब-गजब लाभ

5. डायबिटीज के लिए अंजीर के फायदे

जैसा कि हमने ऊपर बताया अंजीर की पत्तियां भी स्वास्थ्य में काफी लाभकारी होती है, अंजीर के पत्तों में ऐसे कई गुणकारी तत्व मौजूद होते हैं जो मधुमेह के रोगियों के लिए लाभकारी हैं। अंजीर की पत्तियों में एथिल एटीटेट अर्क पाया जाता है जिसका कार्य इन्सुलिन सेंसिटिविटी को बेहतर बनाना होता है।

अंजीर का सेवन रक्त में मौजूद फैटी एसिड एवं विटामिन ई की मात्रा को संतुलित कर मधुमेह के इलाज में मदद करता हैं।

6. हड्डियों के लिए अंजीर के फायदे

सूखे अंजीर को हड्डियों के लिए भी काफी फायदेमंद माना जाता है क्योंकि अंजीर कैल्शियम, मैग्नीशियम और पोटेशियम का एक अच्छा स्रोत है। यह सारे तत्व हड्डियों को मजबूत करने का काम करते हैं। हम सभी यह जानते है कि हड्डियों की मजबूती के लिए सबसे प्रमुख कारक कैल्शियम है एवं अंजीर कैल्शियम के सबसे अच्छे स्रोत में से एक है। इसलिए आवशक है कि प्रतिदिन अंजीर को अपने आहार में शामिल किया जाये।

7. कैंसर से बचाव में अंजीर के फायदे

अंजीर ले नियमित रूप से सेवन कर न इतना लाभकारी हो सकता है कि आप सोच भी नहीं सकते। यदि आप अंजीर का प्रतिदिन किसी न किसी रूप में सेवन करते है तो यह आपको कैंसर जैसी घातक बीमारी से भी बचा सकता है। महिलायों में ब्रेस्ट कैंसर की समस्या बहुत अधिक देखी जाती है महिलाओ को अंजीर के फल का सेवन करते रहना चाहिए। पेट में कैंसर जैसी कोई व्रती न उत्पन्न हो इसके लिए भी इसका सेवन करना चाहिए, क्योंकि अंजीर पेट के लिए भी बेहद प्रभावी होता है।

8. रक्तचाप के लिए अंजीर का उपयोग

अंजीर में फ्लेवोनोइड्स, फिनोल और पोटेशियम आदि तत्व पाए जाते हैं जो उच्च रक्तचाप या ब्लड प्रेशर को सामने बनाये रखते है। जो व्यक्ति अपनी दैनिक दिनचर्या में अंजीर को शामिल करते है वे उच्च रक्तचाप तथा हृदय के रोगों से बचे रहते है। क्योंकि हार्ट अटैक की सम्स्या अधिकतर उच्च रक्तचाप की बजेह से होती है इसलिए अंजीर खाने से हार्ट अटैक से भी बचाव किया जा सकता है।

9. प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि करने के लिए अंजीर खाने के फायदे

आप और हम सभी जानते है कि स्वस्थ प्रतिरोधक क्षमता की कितनी अधिक आवश्यकता होती हैं। यदि आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता अच्छी नहीं है तो कई बीमारी आपको घेर लेगी तथा घातक रूप से बीमार कर देगी। एड्स होने पर व्यक्ति इसलिए ही मर जाता है क्योकि यह व्यक्ति की प्रतिरोधक क्षमता खत्म कर डेटा है, तथा छोटी से छोटी बीमारी भयावह रूप ले लेती है।

उम्मीद है आप प्रतिरोधक क्षमता की महत्वता को समझ गए होंगे। अंजीर में पॉलीसेकेराइड नामक योगिक होता है जिसमे इम्यूनोमॉड्यूलेटर प्रभाव होता है। जिस कारण से अंजीर प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है एवं हमारी रोगों से लड़ने में मदद करता हैं।

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > इसबगोल है इतने काम का, रोग का करे काम तमाम

10. अल्जाइमर में अंजीर के फायदे

हम में से बहुत से लोगों ने अंजीर एवं बादाम का उपयोग याददाश्त को बढ़ाने में किया होगा। आज भी पढने वाले छात्र अंजीर का प्रयोग याद करने की क्षमता बढ़ाने के लिए करते है। अल्जाइमर एक ऐसा रोग है जिसमे व्यक्ति की याद करने की क्षमता क्षीण होती चली जाती है। यह रोग वृद्ध व्यक्तिओं में अधिकतर देखा जाता है, लेकिन इसके लक्षण अब कम उम्र वालो में भी दिखने लगे है।

यदि हम कम उम्र से ही अंजीर के उपयोग करते है तो हमे अल्जाइमर होने की संभावना बहुत कम होगी। अल्जाइमर जैसा खतरनाक रोग हो ही ना इसके लिए आप बादाम एवं अंजीर के नियमित सेवन अवश्य करे। चूँकि ये दोनों गर्म प्रक्रति के मेवे है इसलिए कम मात्रा में ही इन्हें खाए।

11. यौन रोगों में अंजीर के फायदे

यदि आपको कोई शारीरिक कमजोरी हैं या आप यौन रोगों से गुजर रहे है तो अंजीर खाना आपके लिए वास्तव में बहुत ही लाभदायक हो सकता है। बांझपन की समस्या को दूर करने में एवं कामोइच्छा को बढ़ने के लिए जिंक बेहद लाभकारी होता है। अंजीर में जिंक अच्छी-खासी मात्रा में उपलब्ध रहता है।

आप रात को 2 अन्जीर पानी में भिगो कर रख दीजिये एवं सुबह खली पेट इसका सेवन कीजिये। ऐसा नियमित तौर पर करने से आप पाएंगे कि आपको सेक्स क्षमता में वृद्धि हो रही है।

12. अंजीर खाने के फायदे बवासीर में

बवासीर एक ऐसा रोग है जो एक बार हो जाए तो इसे ठीक करना लगभग नामुमकिन हो जाता है। यदि आपको बवासीर की समस्या है तो आपके लिय अंजीर बहुत ही फायदेमंद हो सकता है –

  • रात को भीगे हुए 2 अंजीर सुबह खाने से 8 से 10 दिनों में खुनी बवासीर में आराम मिलता हैं।
  • कब्ज के कारण बवासीर की समस्या बढती है, अंजीर का सही उपयोग कब्ज को ठीक करता हैं।
  • यदि किसी को खुनी बवासीर है तो उन्हें मल त्याग के समय मल मुलायम आना चाहिए, नहीं तो खून अधिक आता हैं। अंजीर का सेवन मल को मुलायम बनाता हैं।

👉 जरुरी लेख पढ़े > ज्वार की रोटी खाने के है चमत्कारिक फायदे

अंजीर को खाने के नुकसान (Anjeer Khane Ke Nuksan)

जैसा कि हमने बताया अंजीर को सेवन करने से काफी सारे फायदे होते हैं वही इसका अधिक मात्रा में सेवन करना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी हो सकता है जो इस प्रकार है –

  • अंजीर का अधिक मात्रा में सेवन करने से मोटापे की समस्या हो सकती है क्योंकि इसमें शुगर मौजूद होता है।
  • उच्च रक्तचाप वाले व्यक्ति को अंजीर का सेवन केवल डॉक्टर की सलाह से ही करना चाहिए नहीं तो रक्तचाप बहुत कम भी हो सकता है।
  • संवेदनशील त्वचा वाले व्यक्तियों को अंजीर की पत्ती से जलन और खुजली की समस्या हो सकती हैं क्योंकि इसमें फ्यूरोकोमोरिस नामक तत्व पाया जाता है, जो जलन जैसी समस्या पैदा करता है।
  • अंजीर का सेवन करने से किसी किसी को एलर्जी भी हो सकती है इसीलिए इसे खाने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से जरूर पूछ ले।
  • यदि आप के गुर्दे में पथरी है तो अंजीर का सेवन ना करें नहीं तो दर्द यही समस्या हो सकती है।
  • अंजीर के अधिक सेवन से दांत में दर्द हो सकता है।
  • सूखे अंजीर में अधिक मात्रा में सल्फाइट होता है, सल्फाइड का अधिक सेवन माइग्रेन अटैक का कारण बन सकता है।
  • वैसे तो अंजीर पाचन तंत्र के लिए अच्छा होता है लेकिन इसके अधिक सेवन से पेट में दर्द जैसी समस्या हो सकती है।

👉 लेख पढ़े – बाजरा ऐसे खाए, रोगों से दूरी बनाये

FAQ (सवाल-जबाब)

अंजीर किसे नहीं खाना चाहिए?

जिन व्यक्तियों को पथरी है उन्हें अंजीर नहीं खाना चाहिए। अंजीर के अन्य नुकसान जानने के लिए पूरी पोस्ट पढ़े।

1 दिन में कितना अंजीर खाना चाहिए

1 दिन में 2 से 3 अंजीर खाने चाहिए, इस से अधिक अंजीर नहीं खाने चाहिए। अंजीर के बारे में अधिक जानने के लिए ऊपर लेख पढ़े।

अंजीर फल को पंजाबी में क्या कहते हैं?

अंजीर फल को पंजाबी में फेगेरी या फागु एवं अंजीर नाम से भी जाना जाता है।

ध्यान देने योग्य

अन्जीर का सेवन करना हमे ना जाने कितने तरीकों से लाभान्वित करता हैं। यदि आपको पथरी जैसा कोई रोग है तो किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से अंजीर खाने के बारे में अवश्य परामर्श ले। यह भी आवश्यक नहीं कि सभी व्यक्तिओं को अंजीर का समान रूप से लाभ हो, किस को कम तो किसी को ज्यादा हो सकता है।


आज हमने क्या जाना?

आज के इस लेख में हमने अंजीर (Anjeer Khane Ke Fayde) के बारे में जानकरी प्राप्त की। इस पोस्ट में अंजीर के फायदे (Anjeer Ke Fayde), अंजीर के नुकसान (Anjeer Ke Nuksan), अंजीर के उपयोग (Anjeer Ke Upyog), आदि के बारें में विस्तार से जाना। उम्मीद करते है कि आपको यह आर्टिकल बहुत पसंद आया होगा।

👉 सबसे ज्याद पसंद किये जाने वाले लेख

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *